DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीआईटी कालेज में हंगामा, छात्र-छात्राओं ने गेट बंद कर शिक्षकों का घेराव किया

बीआईटी कालेज में हंगामा, छात्र-छात्राओं ने गेट बंद कर शिक्षकों का घेराव किया

1 / 4बीआईटी कॉलेज कैंपस में घुसकर बीएएमएस के छात्र-छात्राओं पर बोलेरो सवार नकाबपोश हथियारबंद युवकों द्वारा क्लास रूम में किए गए हमले के विरोध में मंगलवार को छात्र-छात्राओं ने कालेज कैंपस का मुख्य गेट बंद...

बीआईटी कालेज में हंगामा, छात्र-छात्राओं ने गेट बंद कर शिक्षकों का घेराव किया

2 / 4बीआईटी कॉलेज कैंपस में घुसकर बीएएमएस के छात्र-छात्राओं पर बोलेरो सवार नकाबपोश हथियारबंद युवकों द्वारा क्लास रूम में किए गए हमले के विरोध में मंगलवार को छात्र-छात्राओं ने कालेज कैंपस का मुख्य गेट बंद...

बीआईटी कालेज में हंगामा, छात्र-छात्राओं ने गेट बंद कर शिक्षकों का घेराव किया

3 / 4बीआईटी कॉलेज कैंपस में घुसकर बीएएमएस के छात्र-छात्राओं पर बोलेरो सवार नकाबपोश हथियारबंद युवकों द्वारा क्लास रूम में किए गए हमले के विरोध में मंगलवार को छात्र-छात्राओं ने कालेज कैंपस का मुख्य गेट बंद...

बीआईटी कालेज में हंगामा, छात्र-छात्राओं ने गेट बंद कर शिक्षकों का घेराव किया

4 / 4बीआईटी कॉलेज कैंपस में घुसकर बीएएमएस के छात्र-छात्राओं पर बोलेरो सवार नकाबपोश हथियारबंद युवकों द्वारा क्लास रूम में किए गए हमले के विरोध में मंगलवार को छात्र-छात्राओं ने कालेज कैंपस का मुख्य गेट बंद...

PreviousNext

बीआईटी कॉलेज कैंपस में घुसकर बीएएमएस के छात्र-छात्राओं पर बोलेरो सवार नकाबपोश हथियारबंद युवकों द्वारा क्लास रूम में किए गए हमले के विरोध में मंगलवार को छात्र-छात्राओं ने कालेज कैंपस का मुख्य गेट बंद कर जमकर हंगामा किया।

छात्र-छात्राओं ने कालेज प्रबन्धन पर हमलावरों को बचाने तथा पीड़ित छात्र-छात्राओं का उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए कालेज के मुख्य गेट को बंद कर बाहर से आने वाले शिक्षकों व अन्य छात्रों को कालेज के अन्दर आने से रोक दिया। कॉलेज प्रबंधन ने हमले के आरोप में नामजद एक बीटेक छात्र को बर्खास्त कर दिया। जबकि अन्य के खिलाफ जांच की जा रही है। सोमवार को क्षेत्र के बीआईटी कॉलेज में करीब दो दर्जन हथियारबंद नकाबपोश युवक बोलेरो में सवार होकर पहुंचे थे तथा बीएएमएस की क्लास में घुसकर छात्र-छात्राओं पर लाठी-डंडों से हमला बोला था। हमले में तीन छात्राओं समेत करीब 13 छात्र घायल हुए थे। अन्य छात्रों ने क्लास की खिड़कियों से कूदकर जान बचाई थी। पुलिस ने मामले में बी-टेक के 6 छात्रों के अलावा 15-20 अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया था। सोमवार को हुए हमले के विरोध में मंगलवार की सुबह बीएएमएस के दर्जनो छात्र-छात्राएं व अभिभावक कालेज के मुख्य गेट पर एकत्र हो गए और यहां कालेज प्रबन्धन पर खराब सुरक्षा व्यवस्था को लेकर तथा हमलावर युवको को बचाने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे के दौरान छात्र-छात्राओं ने कालेज का मुख्य गेट बंद कर दिया तथा कालेज में बाहर से पढ़ने आने वाले अन्य छात्रों व शिक्षकों को कालेज के अन्दर आने से रोक दिया। इस दौरान छात्र-छात्राओं ने कालेज प्रबन्धन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की तथा आरोप लगाया कि कालेज में छात्र-छात्राओं के लिए कोई सुरक्षा व्यवस्था नही है। कभी भी कोई भी बाहरी तत्व आकर कालेज परिसर में छात्र-छात्राओं के साथ अभद्रता व मारपीट कर चले जाते हैं तथा कालेज प्रबन्धन मूक दर्शक बना रहता है। हंगामे की सूचना पर काफी देर बाद मीरापुर पुलिस मौके पर पहुंची। हंगामा बढ़ता देख बीआईटी चौकी इंचार्ज जोगेन्द्रपाल सिंह ने मीरापुर इंस्पेक्टर पंकज त्यागी को इसकी सूचना दी। जिसके बाद सीओ जानसठ सोमेन्द्र नेगी मीरापुर इंस्पेक्टर पंकज त्यागी, जानसठ इंस्पेक्टर संतोष कुमार त्यागी व रामराज एसओ राजेन्द्र गिरि भारी पुलिस फोर्स के साथ कालेज परिसर पहुंचे तथा आक्रोशित छात्र-छात्राओं को समझा बुझाकर कालेज का गेट खुलवाया। किन्तु गेट खोलने के बाद भी छात्र-छात्राएं पुलिस के समक्ष कालेज प्रबन्धन पर गम्भीर आरोप लगाते हुए हंगामा करते रहे। बाद में एसडीएम जानसठ विजय कुमार, एसपी देहात आलोक शर्मा व एडीएम वित एवं राजस्व आलोक कुमार भी मौके पर पहुंच गए तथा कालेज प्रबन्धन व आक्रोशित छात्र-छात्राओं के बीच वार्ता करायी। --हमले के आरोपी एक छात्र को कालेज ने बर्खास्त किया मंगलवार को कालेज प्रबन्धन ने नामजद बी-टेक छात्रो में शामिल बी-टेक अन्तिम वर्ष के छात्र रोहित पुत्र रामकुमार निवासी नगीना को बर्खास्त कर दिया। कालेज के डिप्टी डायरेक्टर राघव मेहरा ने बताया कि हमले में शामिल रोहित की स्पष्ट पहचान हुई है जिसके चलते उसे बर्खास्त कर दिया गया है।--घायलों को सीएचसी पर ही छोड़ गया कालेज कर्मचारी हमले में तीन छात्राओं ज़ूबी जैदी, प्रियंका, सदफ व छात्र रविन्द्र, शाकिब, सोहनवीर, विकासपाल, एहसान, महताब, नबील, शकील, अक्षय व सलमान समेत 13 छात्र-छात्राएं घायल हुए थे। जिन्हे मीरापुर पुलिस ने जानसठ सीएचसी भिजवाया था। सीएचसी तक घायल छात्रों के साथ कालेज का एक कर्मचारी भी मौजूद था। उपचार के दौरान चिकित्सकों ने गम्भीर रूप से घायल छात्रा जूबी जैदी, महताब व रविन्द्र को जिला अस्पताल के लिए रैफर कर दिया था। किन्तु जिला अस्पताल के लिए रैफर करते ही कालेज प्रबन्धन द्वारा घायल छात्रों के साथ भेजा गया एकमात्र कर्मचारी भी उन्हे सीएचसी पर छोड़कर भाग निकला। जिसके बाद घायल छात्र ही अपने साथियों को जिला अस्पताल लेकर गए। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित सोमवार को हुए हमले के बाद मंगलवार को कालेज में चल रहे हंगामे की सूचना पर पहुंचे एसपी देहात आलोक शर्मा के सामने घायल छात्र-छात्राओं व अभिभावकों ने आप बीती सुनाई तथा आरोपियों के खुलेआम घूमने की बात कही। एसपी देहात ने छात्र-छात्राओं व अभिभावको को आश्वासन देते हुए कहा कि किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। एसपी देहात ने सीओ जानसठ सोमेन्द्र नेगी के नेतृत्व में मीरापुर इंस्पेक्टर पंकज त्यागी व जानसठ इंस्पेक्टर संतोष त्यागी व रामराज एसओ राजेन्द्र गिरि की एक टीम गठित की तथा निर्देशित किया तथा अज्ञात हमलावरों की भी पहचान कर सभी आरोपियों की गिरफ्तारी शीघ्र करने को कहा। पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश देने के लिए टीम रवाना कर दी।--कालेज परिसर में सीसीटीवी कैमरे नहीं बीआईटी कालेज हमेशा किसी ना किसी बात को लेकर चर्चा में रहता है। सोमवार को हुए हमले से पूर्व भी कालेज में कई बार झगड़े हो चुके हैं। इसके बावजूद कालेज परिसर में एक भी सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा है। यदि कालेज में सीसीटीवी कैमरे लगे होते तो हमलावर कैमरे में कैद हो जाते या फिर इस तरह का दुस्साहस नहीं कर पाते। हमले को देखकर साफ स्पष्ट होता है कि हमले में शामिल सभी युवको को इस बात की जानकारी थी कि कालेज परिसर में कहीं पर भी कोई सीसीटीवी कैमरा नही लगा है साथ ही कालेज की दीवारें भी मात्र 5 फुट ऊंची हैं। जिसके चलते आरोपी हमलावर आराम से फरार हो गए।--सुरक्षा व्यवस्था व कैमरे लगाने के आश्वासन पर मानेकालेज डायरेक्टर डा. विराज त्यागी व डिप्टी डायरेक्टर राघव मेहरा ने छात्र-छात्राओं व अभिभावकों से वार्ता की। हंगामे के बीच अभिभावकों व छात्रों ने कालेज प्रबन्धन पर कालेज की सुरक्षा को लेकर सवाल उठाए तथा कालेज प्रबन्धन पर छात्र-छात्राओं के उत्पीड़न का आरोप लगाया। वार्ता के दौरान सीओ जानसठ सोमेन्द्र नेगी, एसडीएम जानसठ विजय कुमार भी मौजूद रहे। कई घंटे बाद कालेज प्रबन्धन द्वारा लिखित में कालेज में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं की सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त करने का आश्वासन दिया गया साथ ही कालेज में सीसीटीवी कैमरे लगवाने की बात कही गई। इसके अलावा हमले की जांच के लिए चार प्रोफेसरों की टीम गठित करने का आश्वासन दिया। लिखित आश्वासन के बाद उत्तेजित छात्र-छात्राएं व अभिभावक शांत हुए।कालेज प्रबन्धन को फटकार, लिखित में मांगा जवाबहंगामे की सूचना पर दोपहर बाद एसपी देहात आलोक शर्मा व एडीएम वित एवं राजस्व आलोक कुमार कालेज पहुंचे तथा कालेज के मीटिंग हॉल में कालेज प्रबन्धन, छात्र-छात्राओ व अभिभावकों के बीच चल रही वार्ता के बीच में ही दोनों अधिकारी पहुंचे गए। यहां एसपी देहात आलोक शर्मा ने घायल छात्र-छात्राओं से उनका हाल-चाल जाना तथा उसकी समस्याएं सुनी। एसपी देहात ने कालेज के डायरेक्टर विराज त्यागी व डिप्टी डायरेक्टर राघव मेहरा को फटकार लगाते हुए उनसे आरोपी हमलावर छात्रों के विरुद्ध कालेज द्वारा की गई कार्यवाही के बारे में पूछा। साथ ही एसपी देहात ने कालेज द्वारा की गई कार्यवाही को लिखित में देने की बात कही। जिसके बाद एसपी देहात व एडीएम ने घायल छात्र-छात्राओं को सुरक्षा का आश्वासन दिया और कहा कि हमलावर किसी भी कीमत पर बख्शे नही जाएंगे। साथ ही कालेज प्रबन्धन को कालेज की सुरक्षा बढ़ाने व छात्रों से वसूले गए जुर्माने को वापस करने कहा। कालेज प्रबन्धन पर 25-25 हजार का जुर्माना वसूलने का आरोपमंगलवार को हंगामे की सूचना पर बीआईटी कालेज पहुंचे एसपी देहात आलोक शर्मा व एडीएम वित आलोक कुमार के समक्ष बीएएमएस के छात्र-छात्राओं ने सार्वजनिक रूप से कालेज प्रबन्धन पर मामूली बातों पर भारी जुर्माना वसूलने का आरोप लगाया। छात्र शुभम, लवी, इन्तेखाब व रजत के साथ साथ सभी छात्रो ने एकजुट होकर अधिकारियों को बताया कि डेढ़ माह पूर्व हुए झगड़े के बाद कालेज प्रबन्धन ने आरोपी बी-टेक छात्रों के विरुद्ध कोई कार्यवाही नही की थी बल्कि उल्टा उनसे 25-25 हजार रुपये जुर्माना वसूला था। जब छात्रों ने जुर्माने को देने से मना किया तो आरोप है कि उन्हे 15 दिन तक कालेज में प्रवेश नहीं करने दिया गया। छात्र-छात्राओं ने आरोप लगाया कि कालेज प्रबन्धन छात्रों से पुलिस व मीडिया के नाम पर 25-25 हजार रुपये वसूलता है। छात्र-छात्राओं की बात सुनकर पत्रकार कालेज प्रबन्धन पर भड़क उठे तथा झूठा आरोप लगाने से नाराज पत्रकारों ने कालेज प्रबन्धन के विरुद्ध पुलिस को तहरीर दी है। वहीं कालेज के डायरेक्टर विराज त्यागी व डिप्टी डायरेक्टर राघव मेहरा ने पुलिस व मीडिया के नाम पर जुर्माना वसूलने की बात को सिरे से खारिज करते हुए सार्वजनिक रूप से माफी मांगी तथा डिप्टी डायरेक्टर ने कहा कि वह इस मामले की स्वंय जांच करेंगे।दिनभर छावनी बना रहा कालेजसोमवार को बीएएमएस के छात्र-छात्राओं पर क्लास में घुसकर बेखौफ दो दर्जन हमलावरों द्वारा किए गए हमले के बाद मंगलवार की सुबह जैसे ही छात्र-छात्राओं ने कालेज का मुख्यगेट बंद कर हंगामा शुरू किया तो पहले कालेज प्रबन्धन ने छात्र-छात्राओं को डराने का प्रयास किया। किन्तु इसके बावजूद घायल छात्र-छात्राएं कडी धूप में ही कालेज के गेट को बंद कर धरने पर बैठ गए। जिसके बाद सूचना पर पहुंचे बीआईटी चौकी इंचार्ज ने छात्र-छात्राओं को समझाने का प्रयास किया। किन्तु किसी भी कीमत पर मानने को तैयार नही थे। जिसके बाद मीरापुर इंस्पेक्टर पंकज त्यागी भी मौके पर पहुंच गए तथा कुछ ही देर बाद सीओ जानसठ सोमेन्द्र नेगी जानसठ इंस्पेक्टर संतोष त्यागी, रामराज एसओ राजेन्द्र गिरि भारी पुलिस फोर्स के साथ कालेज परिसर पहुंच गए तथा कुछ ही देर में कालेज परिसर छावनी में तब्दील हो गया। दोपहर बाद तक भी कई थानो की पुलिस के साथ सीओ जानसठ, एसपी देहात कालेज परिसर में मौजूद थे।--------------------घबराई छात्राएं बोली- सर, ऐसे तो हमें भी उठाकर ले जा सकता है कोई--हमले से घबराई छात्राओं ने एसपी देहात से लगाई सुरक्षा की गुहार--एसपी देहात ने महिला पुलिसकर्मी के साथ पुलिस बल तैनाती का आश्वासन दिया।मीरापुर। बीआईटी कालेज में बीएएमएस के छात्र-छात्राओं पर सोमवार हुए हमले के एक दिन बाद भी घायल छात्राओं के साथ साथ अन्य के चेहरे पर हमलावरों का डर नजर आ रहा था। घबराई छात्राओं ने सुरक्षा पर सवाल उठाते हुए एसपी देहात से गुहार लगाते हुए कहा कि ‘‘सर इस तरह तो हमें कोई भी कालेज से उठाकर ले जा सकता है।एसपी देहात आलोक शर्मा व सीओ जानसठ सोमेन्द्र नेगी के समक्ष हमले का शिकार हुई डरी हुई छात्रा सदफ खान ने हाथ जोड़कर एसपी देहात को कालेज की खराब सुरक्षा व्यवस्था से अवगत कराया। छात्रा ने बताया कि दो दर्जन हमलावर हाथों में तमंचे, लाठी-डंडे लेकर बेखौफ मैन गेट से 800 मीटर तक अन्दर आकर हमला करके लौट जाते हैं, ऐसे में हमारी सुरक्षा कैसे सम्भव है। छात्रा ने हाथ जोड़कर एसपी देहात से सुरक्षा की गुहार लगाते हुए कहा कि सर हमें सुरक्षा दो, नहीं तो इस तरह तो हमें कोई भी कालेज परिसर से उठाकर ले जा सकता है। एसपी देहात ने छात्र-छात्राओ और उनके अभिभावकों को कालेज के चारों गेटों पर महिला पुलिसकर्मी के साथ-साथ अन्य पुलिसकर्मी तैनात करने का आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:the gate of BIT college was closed and protest