DA Image
2 नवंबर, 2020|12:59|IST

अगली स्टोरी

गेहूं की अगेती बुवाई के लिए शासन से आया बीज

default image

गेहूं की अगेती बुवाई के लिए शासन स्तर से करीब चार हजार कंुतल बीज आया है। यह गेहूं का बीज पांच प्रजातियों में आया है। किसानों को कृषि जोत के आधार पर ही गेहूं का बीज दिया जाएगा। वहीं गेहूं का बीज लेने पर किसानों को करीब 50 प्रतिशत अनुदान भी दिया जाएगा। शासन से आए गेहूं की बीज को ब्लाक कार्यालयों में भेजा गया है।

पिछले वर्ष की अपेक्ष इस बार शासन से गेहूं की बुवाई के लिए करीब 20 प्रतिशत बीज अधिक आया है। किसान नवम्बर माह में गेहूं की अगेती बुवाई शुरू कर देते है। जिसे ध्यान में रखते हुए शासन से गेहूं की बुवाई के लिए पांच प्रजातियों में गेहूं का बीज भेजा गया है। गेहूं की अगेती बुवाई के लिए किसानों ने गन्ने की फसल काटकर कोल्हू में डाल दी है। वहीं गेहूं की बुवाई के लिए खेत भी तैयार किए है। कृषि विभाग को 3356 कुंतल और सहकारिता विभाग को 800 कुंतल गेहूं बीज मिला है। दोनों विभागों को पूर्व में इतना ही लक्ष्य दिया गया था। बीज को सभी ब्लाक कार्यालय पर भेजा गया है। जहां से किसानों को बीज वितरित होगा। किसानों को जरुरत के आधार पर बीज दिया जाएगा। इसके लिए किसानों को कृषि भूमि के रकबे से संबंधित दस्तावेज देने होंगे। शासन से बीज की कीमत 3580 रुपये प्रति कुंतल रखा गया है, जिस पर अन्नदाता को 50 फीसदी अनुदान दिया जाएगा। जनपद में पांच प्रजातियों को बीज आया है, किसान एचडी 2967, एचडी 3086, एचडी 3059, पीबीडब्लू 723 और पीबीडब्लू 107 प्रजाति का बीज की बुवाई कर सकते हैं। कृषि अधिकारी ने बताया कि केवल उन्हीं किसानों को बीज दिया जाएगा, जिनका पंजीकरण विभाग में है। जिन किसानों ने अभी तक पंजीकरण नहीं कराया है, उन्हें पहले पंजीकरण कराना होगा। इसके बाद ही उन किसानों को बीज दिया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Seeds came from the government for early sowing of wheat