DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मुजफ्फर नगर › पांच सितंबर को संयुक्त किसान मोर्चा ही लेगा किसान आंदोलन की अगली रणनीति पर निर्णय: नरेश टिकैत
मुजफ्फर नगर

पांच सितंबर को संयुक्त किसान मोर्चा ही लेगा किसान आंदोलन की अगली रणनीति पर निर्णय: नरेश टिकैत

हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फर नगरPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 04:10 AM
पांच सितंबर को संयुक्त किसान मोर्चा ही लेगा किसान आंदोलन की अगली रणनीति पर निर्णय: नरेश टिकैत

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले होने वाली पांच सितंबर की महापंचायत ऐतिहासिक होगी। इस महापंचायत में भाकियू कार्यकर्ता अतिथियों के सत्कार की भूमिका निभाएंगे। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को नौ महीने पांच दिन हो चुके हैं। कुछ न कुछ तो सख्त निर्णय लिया ही जाएगा पर महापंचायत में संयुक्त किसान मोर्चा के द्वारा ही यह निर्णय लिया जाएगा। इस पर वह महापंचायत से पहले कुछ नही बोलेंगे।

राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान पर पांच सितंबर को किसान महापंचायत की तैयारियों का निरीक्षण करने के लिए आए चौधरी नरेश टिकैत ने व्यवस्थाओं को परखा। उन्होंने महापंचायत स्थल पर बन रहे विशाल मंच का निरीक्षण किया। इस मंच पर संयुक्त किसान मोर्चा के नेता पंचायत को संबोधित करेंगे। चौधरी नरेश टिकैत ने सख्त निणर्य लेने के संकेत तो दिए लेकिन कहा कि यह संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा ही लिया जाएगा। यह निर्णय क्या होगा सबको पता लग जाएगा। उन्हें अकेले कुछ कहने का अधिकार नही है। उन्होंने कहा कि नौ माह पांच दिन से किसान सरकार के खिलाफ आंदोलन का बिगुल बजाए हुए हैं। इसमें जरा भी ढील नही दी गई। सबकी जुबां पर आंदोलन की बात और सरकार की तानाशाही पूर्व रवैये की बात है। उन्होंने कहा कि पूरे जिले में और आसपास के जिलों में पंचायतों का दौर महापंचायत की तैयारियों को लेकर चल रहा है। राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान पर आज तक इतना बड़ा पंडाल नही बना जिससे पूरा मैदान छाप दिया गया हो। उन्होंने कहा कि राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान से पहले भी सरकार के खिलाफ कई ऐतिहासिक महापंचायत हुई है। यह महापंचायत भी ऐतिहासिक होगी। यह मैदान सरकार के खिलाफ किसानों के संघर्ष का गवाह है। कुड़ाना में हुई गठवाला खाप की पंचायत पर पूछे गए सवाल पर चौधरी नरेश टिकैत ने कहा कि नही कोई वो नही है सब ठीक है ये तो थोड़ा मोटा हो जावै, परिवार है बहुत बड़ा परिवार है कोई ऐसी बात नही है सब ठीक चल रहा है काम। उन्होंने मेघालय के राज्यपाल सतपाल मलिक के किसान आंदोलन को समर्थन करने की तारीफ की। उन्होंने कहा कि वैसे तो महापंचायत राष्ट्रीय स्तर के मुद्दों को लेकर हो रही है लेकिन प्रदेश स्तर की अलग समस्या है। गन्ने का मूल्य पंजाब सरकार ने 50 रुपए बढ़कर कर दिया है। तो प्रदेश सरकार क्या इतनी घाटे में है इतने कमजोर दिल के मुख्यमंत्री तो नही हैं हमारे अक वे क्या कारण है कि मिल के दबाव में काम कर रहे हैं या किस उसमें हो रहा है क्यों नही घोषित कर रहे गन्ना मूल्य। चौधरी नरेश टिकैत ने कहा कि जो लोग ऐतिहासिक महापंचायत की तैयारी में जी जान से जुटे हैं उनको वह शाबासी भी देते हैं। इस दौरान लाटियान खाप के चौधरी वीरेंद्र सिंह लाटियान भी उनके साथ रहे। इससे पूर्व भाकियू के कार्यालय प्रभारी धर्मेन्द्र मलिक, चांदबीर सिंह फौजी समेत कई कार्यकर्ताओं और नेताओं ने पूरे महापंचायत स्थल का निरीक्षण किया और व्यवस्थाओं को अंतिम रूप दिया। इसके बाद उन्होंने राजकीय इंटर कॉलेज परिसर का निरीक्षण भी किया जहां पर किसानों को कमरों में ठहराया जाएगा।

संबंधित खबरें