DA Image
27 अक्तूबर, 2020|9:11|IST

अगली स्टोरी

आठ अक्तूबर को कराएगे प्रशासन को रालोद की शक्ति का एहसास

default image

-- किसान विधेयक बिल के विरोध में डीएम आफिस पर होगा उग्र प्रदर्शन

-- भाजपा के कार्यक्रमों में उड रही है कोविड-19 की धज्जियां, नहीं हो रही कार्रवाई, रालोद कार्यकर्ताओं पर हो रहे मुकदमे दर्ज

फोटो:

मुजफ्फरनगर। संवाददाता

सरकुलर रोड स्थित रालोद कार्यालय पर प्रेसवार्ता करते हुए रालोद जिलाध्यक्ष अजित राठी ने कहा कि किसान विधेयक बिल का रालोद कडे शब्दों में विरोध करती है। किसान विधेयक बिल के विरोध में रालोद आठ अक्तूबर को डीएम आफिस पर बडा प्रदर्शन करेंगा। वहीं जिला प्रशासन को अपनी शक्ति का एहसास भी कराएगा। डीएम आफिस पर भारी संख्या में कार्यकर्ता और किसान पहुंचेगे। उन्होंने कहा कि भाजपा के कार्यक्रमों में कोविड-19 के नियमों की धज्जियां उड रही है। उनके खिलाफ जिला प्रशासन को कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है, लेकिन नियमों का पालन करते हुए लोकतंत्र में अपनी बात रखने पर जिला प्रशासन रालोद कार्यकर्ताओं पर मुकदमें दर्ज कर रहा है।

उन्होंने कहा कि किसान विधेयक बिल को लेकर सरकार ने जो कानून बनाया है वह किसान विरोधी है। किसान को मजदूर बनाने का काम सरकार ने किया है। तीनों बिलों का रालोद पूरे प्रदेश में विरोध कर रही है। जिला प्रशासन डंडों व लठ के जोर पर जिला चलाना चाहता है। आज किसान सड़क पर आ गया है। उन्होंने कहा कि किसान हित में आंदोलन करने से रालोद पीछे नहीं हटेगी। पूर्व विधायक राजपाल बालियान ने कहा कि आठ अक्तूबर को डीएम आफिस पर किसान विधेयक बिल के विरोध में बडा प्रदर्शन होगा। जिला प्रशासन रालोद को कमजोर मानकर चल रहा है। जिला प्रशासन को इस का एहसास कराना होगा कि रालोद पहले कभी कमजोर नहीं था और ना अब कमजोर है। उन्होंने हाथरस प्रकरण की निंदा की है और दोषियों को सजा दिलाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि रेलवे लाइन के लिए भूमि अधिग्रहण के नाम पर जिला प्रशासन किसानों की गन्ने की फसल को बर्बाद कर रहा है, जो किसानों के हित में नहीं है। इस दौरान पूर्व मंत्री योगराज सिंह, ब्रजवीर सिंह, धर्मेन्द्र राठी, पंकज राठी, अशोक बालियान, विकास, उदयवीर, नौशाद खान, संजय राठी आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:On October 8 the administration will make RLD feel the power