DA Image
21 सितम्बर, 2020|3:31|IST

अगली स्टोरी

गणपति बप्पा मोरया....गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन

गणपति बप्पा मोरया....गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन

अनंत चतुर्दशी के अवसर पर मंदिरों व घरों में स्थापित गणेश प्रतिमाओं का जयघोष के साथ गंगा तट पर शुकतीर्थ में विसर्जन किया गया। इस अवसर पर गणपति बाप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ के जयघोष के साथ जमकर रंग गुलाल उडाकर श्रद्धालुओं ने गणेश जी से मंगल कामना करने की प्रार्थना करते हुए उनकी प्रतिमाओं का विसर्जन किया। अनंत चतुर्दशी के अवसर पर शुकतीर्थ में बड़ी संख्या में श्रद्धालु दूर दराज के इलाकों से गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन करने के लिए पहुंचे। दरअसल हरिद्वार में उत्तराखंड सीमा पर कड़ी चैंकिंग होने के कारण इस बार श्रद्धालुओं का रुख हरिद्वार के बजाए शुकतीर्थ की ओर ही रहा। हरियाणा तक से यहां पर गणेश प्रतिमाएं विसर्जन के लिए आई। शुकतीर्थ के तट पर गणेश जी की आरती करने के बाद मंगल कामना की प्रार्थना की गई। इसके बाद गणेश जी की प्रतिमाओं को नावों में ले जाकर बीच धार में विसर्जित किया गया। गणपति बाप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ, जय गणेश काटो क्लेश, गौरीपुत्र गणेश विध्न सब दूर करों के जयघोष करते हुए गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। नगर के भरतिया कालोनी स्थित गणपति धाम मंदिर से भी गणेश प्रतिमाओ को विसर्जन के लिए शुकतीर्थ ले जाया गया। हालांकि मंदिर समिति के अधिकांश पदाधिकारी कोरोना संक्रमण के कारण आइसोलेशन में होने के चलते इस बार विसर्जन में शामिल नही हुए। घरों में भी लोगों ने बड़ी संख्या में गणेश प्रतिमाएं स्थापित कर रखी थी जिन्हें गंगनहर खतौली, भोपा, मंदौड में विसर्जित किया गया। पंडित राज भारद्वाज ने इस बार गणेश महोत्सव का आयोजन नही किया लेकिन अपने आवास के बाहर प्लाट में गणेश प्रतिमा स्थापित कर उसका नियमित रूप से पूजा अर्चना की। उन्होंने भी गणेश प्रतिमा का विसर्जन किया। वहीं पंडित अवधराज आचार्य के सानिध्य में होने वाला सिद्धी विनायक गणेश जन्मोत्सव समारोह भी नही हुआ। उन्होंने भी जय मां शक्ति मंदिर में गणेश प्रतिमा स्थापित कर परंपरागत रूप से पूजा अर्चना कर गणेश प्रतिमा का विसर्जन किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ganpati Bappa Morya Immersion of Ganesh idols