class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुजफ्फरनगर में सुजडू के जंगल में तमंचा फैक्ट्री पकड़ी, तमंचे-उपकरणों समेत दो धरे

मुजफ्फरनगर में सुजडू के जंगल में तमंचा फैक्ट्री पकड़ी, तमंचे-उपकरणों समेत दो धरे

1 / 2शहर कोतवाली पुलिस ने सुजडू गांव के जंगल में अवैध तमंचा फैक्ट्री पकड़ी गयी है। पुलिस ने दो आरोपियों को मौके पर दबोच लिया। जंगल से बने व अधबने तमंचों, नाल व लोहे की रॉड समेत उपकरण पकड़े है। पुलिस ने...

मुजफ्फरनगर में सुजडू के जंगल में तमंचा फैक्ट्री पकड़ी, तमंचे-उपकरणों समेत दो धरे

2 / 2शहर कोतवाली पुलिस ने सुजडू गांव के जंगल में अवैध तमंचा फैक्ट्री पकड़ी गयी है। पुलिस ने दो आरोपियों को मौके पर दबोच लिया। जंगल से बने व अधबने तमंचों, नाल व लोहे की रॉड समेत उपकरण पकड़े है। पुलिस ने...

PreviousNext

शहर कोतवाली पुलिस ने सुजडू गांव के जंगल में अवैध तमंचा फैक्ट्री पकड़ी गयी है। पुलिस ने दो आरोपियों को मौके पर दबोच लिया। जंगल से बने व अधबने तमंचों, नाल व लोहे की रॉड समेत उपकरण पकड़े है। पुलिस ने पूछताछ के बाद दोनों को जेल भेज दिया है।

कोतवाली में एसपी सिटी ओमबीर सिंह ने प्रेसवार्ता करते हुए बताया कि कोतवाल संजीव शर्मा व एसएसआई समयपाल अत्री को सूचना मिली कि सुजडू के जंगल में अवैध तमंचा फैक्ट्री चल रही है। पुलिस ने जंगल की घेराबंदी करते हुए आकिल निवासी जौला, थाना बुढाना व खलील निवासी काजियान, छपार को दबोच लिया।

पुलिस ने मौके से 5 बने तमंचे, एक अधबना, 18 फायरिंग पिन, छह लोहे व एक स्टील की नाल, दो कारतूस समेत भारी मात्रा में तमंचे बनाने के उपकरण मिले है। एसपी सिटी ने बताया आरोपी सैकड़ों तमंचे बनाकर जनपद व आसपास के जनपदों में सप्लाई कर चुके हैं। एक तमंचे को दो हजार से पांच हजार रुपये तक में बेचते हैं। बुढाना के जौला गांव में अवैध तमंचे बनाने की भरमार है। कई बार पुलिस वहां से तमंचों की फैक्ट्री पकड़ चुकी है। पकड़े गये जौला गांव के अभियुक्त ने पुलिस की नजरों से बचने के लिए सुजडू के जंगल में तमंचे बना रहा था। पुलिस उसके अन्य साथियों के बारे में जानकारी जुटा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Caught illegal factory of weapon
एनजीटी के निर्देश पर मुजफ्फरनर की पांच पेपर मिलों में दिल्ली से पहुंची प्रदूषण नियंत्रण की टीममुजफ्फरनगर में बिजली दरों को लेकर सपाइयों ने कलक्ट्रेट घेरा