DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्रेन रेप केस: पीड़ता ने बदला बयान, कहा- सिपाही ने की थी मदद

लखनऊ-चंडीगढ़ मेल में हुई घटना को महिला यात्री ने इंकार कर दिया है। बिजनौर कोर्ट में यात्री ने यह बयान देकर इस मामले को सिरे से खारिज कर दिया है। कोर्ट में पीड़िता के बयान के बाद पूरा मामला ही बदल गया है। पीड़िता ने बताया कि मंगलवार को वह ट्रेन के दिव्यांग कोच में बीमारी की हालत में बैठ गई। जहां सिपाही ने उसकी मदद की। सीट पर सोने की जगह दे दी। कोच से सिपाही ने चार अन्य यात्रियों को बाहर कर दिया, इस वजह से लोगों ने शोर मचा दिया। मेडिकल रिपोर्ट में इस तरह की घटना की पुष्टि नहीं हुई है। मुरादाबाद जीआरपी करेगी मामले की जांच: ट्रेन में महिला के साथ हुई घटना का मुकदमा बिजनौर पुलिस ने दर्ज किया था। घटना स्थल चांदपुर होने की वजह से मामले की जांच मुरादाबद जीआरपी को दे दी गई है। मुरादाबाद थाना के प्रभारी पंकज पंत मामले की जांच करेंगे। पंत का कहना है कि जांच के तथ्य जुटाए जा रहे हैं। मुकदमें की पत्रावली मुझे मिल गई है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि सिपाही के निलंबन की अलग से जांच की जाएगी। एसपी जीआरपी केके चौधरी का कहना है कि सहारनपुर के सीओ को जांच दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Train Rape case: Medical test not confirmed in rape