ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश मुरादाबादडॉक्टरों के पैनल से हुआ बंदी का पोस्टमार्टम, वीडियोग्राफी करवाई

डॉक्टरों के पैनल से हुआ बंदी का पोस्टमार्टम, वीडियोग्राफी करवाई

जेल में अचानक तबियत बिगड़ने के बाद बंदी सुधीर की रविवार को मौत हो गई थी। सोमवार को दो डॉक्टर के पैनल ने शव का पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट...

डॉक्टरों के पैनल से हुआ बंदी का पोस्टमार्टम, वीडियोग्राफी करवाई
हिन्दुस्तान टीम,मुरादाबादMon, 27 May 2024 11:45 PM
ऐप पर पढ़ें

जेल में अचानक तबियत बिगड़ने के बाद बंदी सुधीर की रविवार को मौत हो गई थी। सोमवार को दो डॉक्टर के पैनल ने शव का पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हार्ट अटैक से मौत होने की पुष्टि हुई है। हालांकि शरीर पर चोट के दो निशान भी मिले हैं। परिजन पिटाई से मौत का आरोप लगा रहे थे। यही कारण है कि शव का अंतिम संस्कार कराने तक पुलिस तैनात रही।
मझोला थाना क्षेत्र के लाइनपार वाल्मीकि बस्ती निवासी सुधीर (35 वर्ष) पुत्र होतीलाल को 23 मई को मझोला पुलिस ने कोर्ट में पेशकर जेल भेजा था। रविवार को उसकी तबीयत खराब होने पर जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां थोड़ी देर बाद उसकी मौत हो गई। सूचना मिलने पर सुधीर के परिजन मोर्चरी पर पहुंच गए। परिजनों ने जेल में पिटाई से मौत होने का आरोप लगाया। सोमवार सुबह से ही परिजन और रिश्तेदार जेल गेट पर पहुंच गए। इसकी जानकारी मिलने पर पुलिस अधिकारी फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे और उन्हें समझाबुझाकर शांत कराया। एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया, एडीएम सिटी ज्योति सिंह, सीओ सिविल लाइंस अर्पित कपूर ने जेल पहुंचकर जांच पड़ताल की। जेल अधिकारियों से पूरे मामले की जानकारी की। इसके अलावा परिजनों से बातचीत की। इसके बाद मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में पंचनामा भरकर शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया, जहां दो डॉक्टरों ने शव का पोस्टमार्टम किया। वीडियोग्राफी ओर फोटोग्राफी भी करवाई गई, जहां हार्ट अटैक से मौत होने की पुष्टि हुई। उधर, पुलिस को आशंका थी कि शव ले जाने के बाद परिजन मझोला क्षेत्र में जाम लगाकर प्रदर्शन कर सकते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए पोस्टमार्टम हाउस से लेकर सुधीर के घर तक भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया। हालांकि पोस्टमार्टम हाउस से शव घर लाने के बाद परिजन आवश्यक क्रियाकलाप के बाद श्मशानघाट ले जाकर अंतिम संस्कार कर दिया। अंतिम संस्कार के बाद पुलिस ने राहत की सांस ली। इस संबंध में एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया ने बताया कि बंदी की मौत के बाद परिजन कुछ आशंका जता रहे थे। इसलिए पैनल से पोस्टमार्टम करवाया गया। परिजनों ने जो आरोप लगाए हैं उसकी भी जांच की जाएगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।