ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश मुरादाबादमूढ़ापांडे में युवती से दुष्कर्म में दोषी को दस साल की सजा

मूढ़ापांडे में युवती से दुष्कर्म में दोषी को दस साल की सजा

मूंढापांडे में पशुओं को चारा देने गई युवती से पड़ोसी ने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। सोमवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने दस साल की सजा और 22 हजार...

मूढ़ापांडे में युवती से दुष्कर्म में दोषी को दस साल की सजा
हिन्दुस्तान टीम,मुरादाबादMon, 19 Feb 2024 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

मूंढापांडे में पशुओं को चारा देने गई युवती से पड़ोसी ने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। सोमवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने दस साल की सजा और 22 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। पांच साल पहले हुए केस में अदालत में पीड़िता समेत एक दर्जन लोगों ने गवाहियां दीं।
जिले के मूंढापांडे के एक गांव में युवती से दुष्कर्म की घटना 29 अगस्त,19 की है। घटनाक्रम के अनुसार पीड़िता रात में अपनी भाभी के साथ जंगल में पशुओं को चारा देने गई थी। इस दौरान जंगल में मौजूद गांव के युवक ने युवती को पकड़ लिया। जबरन खाली मकान में ले गया और उससे दुष्कर्म किया। बहन के घर न लौटने पर उसकी तलाश हुई तो वह बंद कमरे में मिली। युवती ने रोते हुए पूरी घटना की जानकारी दी। पीड़िता ने बताया कि जाने आलम रात के अंधेरे का फायदा उठाकर उसे कमरे में ले गया और दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा कायम गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

फास्ट ट्रैक कोर्ट-एक मो. फिरोज की अदालत में केस की सुनवाई हुई। एडीजीसी अशोक कुमार यादव के अनुसार केस में पीड़िता व उसकी भाभी की गवाही अहम रही। दोनों पक्षों को सुनने के बाद कोर्ट ने जानेआलम को दोषी ठहराते हुए दस साल का कारावास व 22 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई।

बिलारी के शातिरों पर गैंगस्टर में ढाई साल की सजा

मुरादाबाद।

जिले की कुंदरकी पुलिस ने बिलारी के शातिर को गैंगस्टर एक्ट में दोषी करार देते हुए ढाई साल की सजा व पांच हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है। पुलिस ने 24 जनवरी, 22 के तत्कालीन एसआई सतराज सिंह ने बिलारी तेवर खास गांव का मतीन और नवाब के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा कायम कराया था। आरोप है कि ये आरोपी गैंग बनाकर अवैध रूप से आर्थिक धन वसूली करते हैं। केस की सुनवाई एडीजे-5 ज्ञानेन्द्र सिंह यादव की गैंगस्टर कोर्ट में हुई। जिसमें विशेष लोक अभियोजक राजीव त्यागी ने पुलिस रिपोर्ट व अन्य साक्ष्य प्रस्तुत किए। इस पर अदालत ने आरोपियों को गैंगस्टर एक्ट का दोषी करार दिया। प्रत्येक को दो साल छह माह का कठोर कारावास व पांच-पांच हजार का जुर्माना भी लगाया है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें