ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश मुरादाबादसपाइयों ने गेट पर रोकने पर किया हंगामा, जमकर नारेबाजी

सपाइयों ने गेट पर रोकने पर किया हंगामा, जमकर नारेबाजी

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के सर्किट हाउस पहुंचने की सूचना पर तमाम सपा नेता और कार्यकर्ता सर्किट हाउस पहुंच गए। पुलिस ने उन्हें गेट पर रोक...

सपाइयों ने गेट पर रोकने पर किया हंगामा, जमकर नारेबाजी
हिन्दुस्तान टीम,मुरादाबादThu, 22 Feb 2024 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के सर्किट हाउस पहुंचने की सूचना पर तमाम सपा नेता और कार्यकर्ता सर्किट हाउस पहुंच गए। पुलिस ने उन्हें गेट पर रोक लिया। गेट पर तैनात पुलिस अधिकारियों ने सपाइयों को समझाया कि सिर्फ उन्हें ही जाने की अनुमति है जिनके नाम पार्टी की ओर से मिली लिस्ट हैं। इस पर वह गेट पर ही धरने पर बैठकर हंगामा करने लगे। इस दौरान सपा नेताओं ने आरोप लगाया कि जिला अध्यक्ष ने मनमाफिक लिस्ट बनाकर लोगों की एंट्री करवाई है। जब अखिलेश यादव सर्किट हाउस से हॉस्पिटल के लिए रवाना हुए तो गेट पर खड़े कार्यकर्ताओं ने उन्हें रोक लिया। अखिलेश लौट कर सभी से मिलने का वादा करके चले गए।
सर्किट हाउस के गेट पर सपाइयों का हंगामा सपा मुखिया अखिलेश यादव के ठाकुरद्वारा से मुरादाबाद पहुंचने से पहले हुआ। सपा मुखिया से मिलने पहुंचे फिरासत हुसैन, मुकेश यादव, धर्मेंद्र यादव, प्रमोद यादव, लुकमान खां, मोहसिन, संभल जिलाध्यक्ष असगर अली समेत कई पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को गेट पर रोक दिया गया। पुलिस से सपा कार्यकर्ताओं की नोक झोंक हुई। इसके बाद एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया ने उन्हें समझाया कि जब पूर्व सीएम बाहर आएंगे तो उनकी मुलाकात करवाएंगे। कुछ देर बाद पूर्व विधायक हाजी यूसुफ अंसारी पहुंचे और भीड़ में मौजूद कार्यकर्ताओं के साथ खड़े हो गए। कुछ देर बाद वह भी सर्किट हाउस में अंदर प्रवेश कर गए। बाद में सांसद एसटी हसन पहुंचे तो उन्होंने वजह पूछी तो सुरक्षा कर्मियों ने 35 लोगों की लिस्ट दिखा दी, जिसमें सांसद, सभी विधायक, पूर्व विधायकों समेत कुछ नाम शामिल थे।

गेट पर धरने पर बैठे सपा नेता और कार्यकर्ताओं ने जिला अध्यक्ष डीपी यादव के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। सपा के प्रदेश सचिव फिरासत हुसैन गामा ने कहा यह सपा कार्यकर्ताओं का अपमान है। जिलाध्यक्ष ने जो लिस्ट दी उसमें तमाम लोगों के नाम नहीं है। वह अकेले नहीं जाएंगे। सभी को अंदर जाने की अनुमति दी जाए। जिला पंचायत सदस्य मुकेश यादव ने कहा कि जिलाध्यक्ष ने भेदभाव किया है यह सही नहीं है। गेट पर काफी देर हंगामे की स्थिति रही। अखिलेश यादव जब गेट से गुजरे तो कार्यकर्ताओं ने उन्हें रोक लिया। इस पर उन्होंने कहा कि लौट कर सभी से मिलेंगे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें