DA Image
8 अगस्त, 2020|6:25|IST

अगली स्टोरी

मानसून के बाद होगी सड़कें गड्ढा मुक्त

default image

मानसून में सड़कों को गड्ढा मुक्त रखने की तैयारी हो रही है। शासन ने सड़क सुधार का ब्योरा मांगा है। अभी गांव की सड़कों के पेच मरम्मत के लिए प्रस्ताव मांगे गए है। फैसले के बाद लोक निर्माण विभाग जिले में ग्रामीण सड़कों को ब्योरा जुटाने का काम शुरु कर दिया है। माना जा रहा है कि प्रस्ताव मुख्यालय भेजे जाने के बाद भी इन कामों पर फिलहाल सड़कों को गड्ढा मुक्त करना मुमकिन नहीं है। हालांकि अन्य जिला मार्ग के लिए भी शासन को प्रस्ताव भेजे गए है। सड़कों को गड्ढा मुक्त रखने की तैयारी में पिछड़ गई है। कोरोना के असर के चलते सड़कों को सुधारने की योजना नहीं बन सकीं। शासन स्तर से सड़क सुधार के लिए फंड न मिलने से विभाग की योजनाओं को अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका। मानसून से पहले लोनिवि ने अन्य जिला मार्ग के लिए प्रस्ताव शासन को भेजने के लिए तैयार किए थे। पर कोरोना लॉक डाउन में सड़क सुधार के काम की शुरुआत नहीं हो सकीं। अब मानसून में ग्रामीण सड़कों को गड्ढा मुक्ति की कवायद शुरु हुई है। मुख्यालय स्तर से ग्रामीण सड़कों के लिए कार्य योजना मांगी है। फरमान के बाद लोनिवि ने गांव की सड़कों की पेच मरम्मत के लिए सर्वे कराने का काम शुरु कर दिया है। जानकारों की माने तो शासन ने एक किमी में पचास हजार रुपये तक के पेच वर्क के काम को प्रस्ताव में शामिल करने को कहा है। जानकारों की माने तो जिले में करीब पौने दो सौ किमी सड़कों को सुधारने का प्रस्ताव है। इनमें 95 किमी का क्षेत्र अकेले प्रांतीय खंड के दायरे में है। विभाग की माने तो सड़कों की गडढा मुक्ति पर तीन करोड़ रुपये खर्च का अनुमान है। -- ग्रामीण सड़कों के गड्ढा मुक्ति के लिए 95 किमी का प्रस्ताव बनाया गया है। अन्य जिला मार्ग में भी 90 किमी के प्रस्ताव शासन को भेजे गए है। इन पर करीब डेढ़ करोड़ रुपये खर्च होंगे। बारिश में गड्ढों में पत्थर डालने का काम हो सकेगा। लक्ष्मी नारायण एक्सईएन प्रांतीय खंड --

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Roads will be pit free after monsoon