DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यायल में बालिकाओं की सुरक्षा पर खतरा

हाईकोर्ट के आदेश पर एसडीएम रामजी लाल ने सोमवार को कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय पसियापुरा पदार्थ और मलकपुर सैमली का औचक निरीक्षण किया। जहां उन्हें बालिकाओं की सुरक्षा को लेकर कई खामियां दिखीं। जिसपर चीफ वार्डन ने सफाई दी कि रात्रि सुरक्षा के लिए चौकीदार रखा हुआ है। जबकि विद्यालय की विद्युत आपूर्ति ठप पड़ी है और लेखाकार एक माह से अनुपस्थित चल रहे हैं। एसडीएम ने उसके खिलाफ की सिफारिश की है। एसडीमए रामजी लाल ने सोमवार को हाईकोर्ट के आदेश पर कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय पसियापुरा पदार्थ का निरीक्षण किया। जहां उन्होंने पाया कि छात्रावास में सीलन आ रही है। 100 छात्राएं पंजीकृत हैं। जिसमें सिर्फ 66 ही उपस्थित थीं। छात्रावास की सुरक्षा के लिए कोई गार्ड मौजूद नहीं था। वार्डन ने बताया कि रात्रि के लिए एक चौकीदार है। छात्रावास में तीन बच्चे बीमार पाये गए। भवन की स्थिति ठीक नही। शौचालयों की सफाई व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। सफाई कर्मचारी तैनात नहीं है। भोजन नियमानुसार नहीं बनाया जा रहा है। विद्यालय में बिजली का कनेक्शन नहीं है। वार्डन ने बताया कि जेई को बिजली कनेक्शन के लिए पत्र लिखा गया था, लेकिन उसपर आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। उधर मलकपुर सैमली के छात्रावास की स्थिति ठीक पाई गई। 100 छात्राओं में से 93 मौजूद रहीं। यहां भी छात्रावास की सुरक्षा के लिए गार्ड नहीं था। केवल रात्रि का चौकीदार रखा गया है। इस विद्यालय की चार दीवारी अधूरी है। खरपतवार उगे होने से कीड़ों और सांप आदि के विद्यालय में घुसने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। बिजली की हालत यहां भी ठीक नहीं है। सफाई कर्मचारी तैनात न होने के बावजूद शिक्षक अपने स्तर से शौचालयों की सफाई कराते हैं। लेखाकार गुंजन सिंह एक माह से अनुपस्थित चल रहा है। एसडीएम ने जांच रिपोर्ट बनाकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को भेजी है। साथ ही लेखाकार के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Raging on the school's clutter SDM