ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश मुरादाबादपद्मश्री साहू सुशील सहाय का बीमारी के चलते निधन

पद्मश्री साहू सुशील सहाय का बीमारी के चलते निधन

बिलारी। पद्मश्री साहू सुशील सहाय का लंबी बीमारी के चलते मंगलवार दोपहर करीब दो बजे बिलारी के नगलिया जट स्थित उनके हर विलास फार्म हाउस पर निधन हो गया।...

पद्मश्री साहू सुशील सहाय का बीमारी के चलते निधन
हिन्दुस्तान टीम,मुरादाबादTue, 14 May 2024 06:45 PM
ऐप पर पढ़ें

बिलारी। पद्मश्री साहू सुशील सहाय का लंबी बीमारी के चलते मंगलवार दोपहर करीब दो बजे बिलारी के नगलिया जट स्थित उनके हर विलास फार्म हाउस पर निधन हो गया। सूचना पर बड़ी संख्या में लोग उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे। मेंथा की शिवालिक प्रजाति का आविष्कार करने पर उन्हें पद्मश्री पुरस्कार मिला था। वह कृषि वैज्ञानिक थे और हमेशा खेती में नए अनुसंधान किया करते थे।
साहू सुशील सहाय का जन्म बिलारी नगर के मोहल्ला महाजनान के शंकर भवन में 8 फरवरी 1944 को हुआ था। कक्षा एक से आगे की पढ़ाई के लिए उन्हें कॉल्विन तालुकेदार्स कालेज लखनऊ भेजा गया। वहां से उन्होंने इंटर पास किया। इसके साथ ही लखनऊ विश्वविद्यालय से बीएएलएलबी भी की। बाद में अपने पैतृक गांव आकर उन्होंने कृषि कार्य किया। रामपुर जिले में रामपुर इंडस्ट्री लिमिटेड के नाम से उनकी बड़ी कंपनी थी और रामपुर में काफी उद्योग स्थापित हैं। वह नए अनुसंधान कृषि में किया करते थे। उन्होंने मध्यम व सीमांत वर्गीय किसानों के लिए मशरूम की अच्छी पैदावार के लिए कई आविष्कार किए। उन्होंने नई-नई प्रजाति लगाकर किसानों को प्रेरित किया। वर्ष 1974 में वह राजनीति में चले गए। इसके बाद चौधरी चरण सिंह ने उन्हें भारतीय क्रांति दल का उम्मीदवार बनाया। वह पंतनगर कृषक क्लब के अध्यक्ष भी रहे। इसके साथ ही कांग्रेस कमेटी के सदस्य भी रहे। वह एक अच्छे घुड़सवार भी थे।

2005 में मिला था राष्ट्रपति अब्दुल कमाल के हाथों पद्मश्री

2005 में मेंथा की शिवालिक प्रजाति का आविष्कार करने के लिए तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने उन्हें पद्मश्री से सम्मानित भी किया था। साहू सुशील सहाय शंकर सहाय हर सहाय कन्या इंटर कॉलेज के कार्यकारिणी के अध्यक्ष भी थे। परिवार में उनकी पत्नी शाहीन आशा सहायके अलावा छोटी बेटी सुनैना, बड़ी बेटी सुचेता हैं। छोटी बेटी सुनैना की शादी सीएल गुप्ता निर्यात फर्म के परिवार में मुदित गुप्ता के साथ हुई जबकि बड़ी बेटी सुचिता का विवाह मुजफ्फरनगर में एक जमींदार परिवार में कुंवर समर्थ प्रकाश से हुआ।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।