DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवरात्र: सदैव शुभ फल देने वाले मां के सातवें स्वरूप की पूजा

नवरात्र: सदैव शुभ फल देने वाले मां के सातवें स्वरूप की पूजा

हसनपुर के चामुंडा मंदिर समेत देवी मंडपों में सातवें नवरात्र पर मां दुर्गा की सातवीं शक्ति कालरात्रि की पूजा-अर्चना की गई। मां की भेंट से मंदिर सुबह से ही गुंजायमान हो उठा। मां के भजन में हर कोई भक्ति भाव में डूब गया।

विपिन शास्त्री ने बताया कि मां दुर्गा की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती है। इनका स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, लेकिन यह सदैव शुभ फल देने वाली हैं। इस कारण इनका एक नाम शुभंकरी भी है। दुर्गा पूजा के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा-आराधना की जाती है। मां कालरात्रि दुष्टों का नाश करने वाली हैं। दानव, दैत्य, राक्षस, भूत-प्रेत आदि इनके स्मरण मात्र से ही भयभीत होकर भाग जाते हैं। यह ग्रह बाधाओं को भी दूर करने वाली हैं। झारखंड महादेव शिवाला मंदिर, माईजी महाराज समेत शहर-देहात के मंदिरों में मां के सातवें रूप की पूजा हुई। शाम के वक्त आरती की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: navaraatr sadaiv shubh phal dene vaale maan ke saataven svaroop kee pooja 59 5000 Navaratri worship of the seventh nature of Ma always giving auspicious results