DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भोजपुर :खसरे से गई मासूम की जान, स्‍वास्‍थ्य महकमा अनजान

थाना क्षेत्र के ग्राम खईया खादर निवासी हाफिज निजामुद्दीन के पुत्र चार वर्षीय औवेश रजा को खसरा निकल रही थी। जब बच्चे की हालत ज्यादा खराब होने लगी तो गांव के ही डॉक्टरों को दिखाया गया। बाद में पीपलसाना के बीयूएमएस डॉ शाने आलम के पास लेकर गए। जहां पर खसरा की दवाई दी गई। लेकिन हालत में सुधार नहीं होने से उन्होंने बच्चे को मुरादाबाद रेफर कर दिया। परिजन उसे मुरादाबाद ले जा रहे थे तभी रास्ते में उसने दम तोड़ दिया। जिससे परिजनों में कोहराम मच गया। इधर, बच्चे की मौत से कुछ लोगों ने डॉक्टर की लापरवाही बताई। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बीयूएमएस डॉक्टर की डिग्रियों की जांच की तथा मृतक के घर जाकर मामले की जानकारी ली। इस दौरान ग्रामीणों ने अधिकारियों से क्षेत्र में खसरे का प्रकोप होने की बात कहकर गांव में शिविर लगाकर दवा देने की बात कही। मृतक के पिता ने बताया कि चार वर्षीय औवेश रजा को खसरा निकल रही थी। जिसमें महिलाओं ने दवाई नहीं लेने की बात कही थी, लेकिन हालत ज्यादा बिगड़ने पर उन्होंने गांव के ही डॉक्टरों से दवा ले ली। इसके बाद भी ठीक नहीं होने पर पीपलसाना के बीयूएमएस डॉक्टर शाने आलम को दिखाया गया, लेकिन शाने आलम ने बच्चे को मुरादाबाद रेफर कर दिया था। जहां ले जाते समय उसकी मौत हो गई। शनिवार को देर शाम शव को सुपुर्दे खाक कर दिया। वहीं चार वर्षीय बच्चे की मौत के बाद उसके परिजनों में कोहराम मच गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Life went innocent measles, health department unknown