DA Image
25 अक्तूबर, 2020|10:22|IST

अगली स्टोरी

जन्माष्टमी : श्रीकृष्ण और राधा के रूप में सजे बच्चों ने मोहा मन

default image

क्षेत्र के बहोरनपुर नरौली गांव स्थित प्रेम शांति इंटर कॉलेज में श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर बच्चों ने राधा-कृष्ण का बाल रूप धारण कर लोगों का मन मोह लिया। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा गया। इस दौरान गायत्री परिवार के वरिष्ठ कार्यकर्ता आचार्य विजयपाल सिंह राघव ने भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का वर्णन किया। कहा कि क्रूर, अत्याचारी कंस के कहर से लोगों को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने श्री कृष्ण के रूप में पृथ्वी पर अवतार लिया था।

मंगलवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर गायत्री परिवार के वरिष्ठ कार्यकर्ता आचार्य विजयपाल सिंह राघव ने कहा कि विष्णु भगवान ने श्री कृष्ण के रूप में भाद्रपद की अष्टमी की मध्यरात्रि को मथुरा में अपने आठवें अवतार के रूप में जन्म लिया। बताया कि योगेश्वर भगवान श्री कृष्ण के भगवत गीता के उपदेश अनादि काल से जनमानस के लिए जीवन दर्शन प्रस्तुत कर जीने की कला सिखा रहे हैं। भारत के अतिरिक्त विदेशों में बसे भारतीय भी पूरी आस्था उल्लास के साथ श्री कृष्ण जन्माष्टमी मनाते हैं। इस दिन दूर-दूर से श्रद्धालु श्री कृष्ण के बाल रूप के दर्शन के लिए मथुरा पहुंचते हैं। श्रद्धालु जन रात्रि 12 बजे तक व्रत रखकर कृष्ण के जन्म के पश्चात कान्हा को झूला झूला कर माखन, मिश्री और तुलसी के पत्तों सहित पंचामृत, पंजीरी का भोग लगाकर व्रत का पारायण करते हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Janmashtami Children dressed as Shri Krishna and Radha had a happy mood