DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बच्चों में एंग्जाइटी योग से दूर कराने की पहल

तेज रफ्तार से भागती जीवनशैली में तनाव ने सभी को घेर रखा है। बच्चे भी इससे अछूते नहीं हैं। बच्चों की इस एंग्जाइटी को समझकर इसे दूर करने में कई योग विशेषज्ञ जुटे हुए हैं। खासकर कुंडलिनी योग और चक्र मेडिटेशन से बच्चों का तनाव दूर करने में जुटे हुए हैं।

योग विशेषज्ञ डा. नईम शाह का कहना है कि शरीर के अंदर जो चक्र हैं, उन्हें मेडिटेशन के जरिए बैलेंस किया जा सकता है। यदि यह बैलेंस नही होता है तो डिप्रेशन और एंग्जाइटी घेर लेती है। चक्रा मेडिटेशन इसके लिए सबसे बेहतर उपाय है। यही वजह है कि बच्चों को इससे जोड़ने की कवायद की जा रही है। यदि बचपन से ही वह अपने चक्रों को बैलेंस करना सीख लेंगे तो जीवन के हर स्तर पर संतुलित रहकर तनाव से काफी हद तक दूर रह सकेंगे। कुंडलिनी योग भी उतना ही कारगर है। चक्रा मेडिटेशन में अलग-अलग ध्यान के तरीके हैं। वहीं कुंडलिनी योग में कुछ आसन ऐसे हैं जिनका प्रभाव अलग-अलग चक्रों पर पड़ता है। उन्होंने बताया कि नॉर्मल योग के आसन करने के भी कई फायदे हैं लेकिन स्ट्रेस, एंग्जाइटी को बैलेंस करने के लिए चक्रा मेडिटेशन और कुंडलिनी योग बहुत जरूरी है। यह मानसिक विकास के लिए भी बहुत जरूरी है। यदि बच्चों को इससे जोड़ा जाए तो वह न केवल आजीवन संतुलित रहेंगे बल्कि उनका मानसिक विकास भी सकारात्मक दिशा में होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Initiative to remove children anxity from yoga