DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्यायाम से घटेगी बांझपन की बीमारी

व्यायाम से घटेगी बांझपन की बीमारी

बांझपन की समस्या से बचने के लिए महिलाओं को जीवनशैली में बदलाव करना होगा। व्यायाम और वजन कम करके वह इसके असर को घटा सकेंगी। यह जानकारी बुधवार को मुरादाबाद ऑब्सट्रेटिक गायनोकोलॉजिकल सोसाइटी की सीएमई में दी गई। कांठ रोड स्थित होटल में हुई मासिक सभा एवं सीएमई में बांझपन की समस्या के कारणों, बचाव और इलाज के बारे में विस्तार से चर्चा की गई।

सीएमई की मुख्य वक्ता दिल्ली से आईं बांझपन रोग विशेषज्ञ डॉ.शिवानी सचदेवा गौड़ ने बताया कि बांझपन की बीमारी का कुछ लक्षणों के आधार पर अंदाजा लगाकर इसकी जांच कराई जा सकती है। किसी महिला के चेहरे पर अधिक बाल, मुंहासे, पीरियड देरी से होना आदि बांझपन के लक्षण हो सकते हैं। इस बीमारी के इलाज की अब काफी बेहतर दवाएं उपलब्ध हैं। बांझपन की समस्या से छुटकारा पाने में नियमित रूप से व्यायाम और वजन कम करना भी काफी ज्यादा कारगर है। डॉ.शिवानी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हुए नए शोधों का हवाला देते हुए बताया कि किसी महिला में बांझपन की नींव तभी पड़ जाती है जिस समय वह अपनी मां के गर्भ में होती है, लेकिन आगे जाकर जीवनशैली से यह सीधे तौर पर प्रभावित होती है। शारीरिक निष्क्रियता और वजन ज्यादा होने पर समस्या बढ़ जाती है, जबकि व्यायाम करने और वजन नियंत्रित रखने से यह घटती है। विटामिन बी और डी की कमी भी समस्या को बढ़ा देती है। बांझपन की समस्या को मेडिकल साइंस में पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज नाम से जाना जाता है। सीएमई में एपेक्स हॉस्पिटल, मुरादाबाद की डाइटीशियन अर्चना श्रीवास्तव ने मोटापे को घटाने में संतुलित और नियंत्रित आहार की अहमियत बताते हुए इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी। अध्यक्षता डॉ.ऋचा गंगल व संचालन डॉ.निधि ठाकुर ने किया। डॉ.नीना मोहन, डॉ.ऊषा सिंह, डॉ.गायत्री सिंह, डॉ.अर्चना अग्रवाल, डॉ.उमा भरतवाल आदि मौजूद रहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Infertility disease will decrease by excercise