DA Image
22 अक्तूबर, 2020|11:17|IST

अगली स्टोरी

बादलों की लुकाछुपी के बीच देखा गया साल का पहला सूर्य ग्रहण

default image

बादलों की लुकाछुपी के बीच साल का पहला सूर्य ग्रहण देखा गया। इससे देखने के लिए लोग सुबह से ही आतुर रहे। एक दिन पहले ही बादल होने के कारण उन्होंने पहले से ही ग्रहण देखने के इंतजाम कर लिए थे। ग्रहण काल आरंभ होने से पहले ही मैदान, छतों और खुली जगहों पर पहुंच कर व्यवस्था बना ली। कहीं दूरबीन तो कही काले लैंस के चश्मों का प्रयोग किया गया। ग्रहण को सीधे देखने के लिए मना किया गया तो लोगों ने बर्तनों में पानी भरकर सूरज की परछाईं देखी।

रविवार को सूर्य ग्रहण देखने की लोगों में काफी उत्सुकता थी। मगर एक दिन पहले ही आसमान में बादल आ जाने से उन्हें अपने अरमान धूमिल होते नजर आने लगे। इससे बचने के लिए उन्होंने तैयारियां शुरू कर दीं। लाइनपार रामलीला मैदान में लोगों ने पुरानी विधि अपनाई। शीशे पर एक ओर हलका काला धुआं लगा कर ग्रहण देखने का प्रयास किया। लोगों ने छतों पर बर्तन में पानी भर कर और छोटे मगर मोटे लैंस से भी ग्रहण देखा गया। राम गंगा तट, लाल बाग और कांठ रोड पर कॉसमॉस के पीछे बने पुल और उसके नीचे भी लोगों ने रामगंगा में सूर्य ग्रहण की परछाईं देखी।

दोपहर 1:52 बजे हुआ मोक्ष, हुआ मंत्र जाप

मुरादाबाद। दुनिया के कई देशों में सूर्य ग्रहण सुबह सवा बजे आरंभ हो कर दोपहर बाद तीन बजकर चार मिनट तक रहा। मुरादाबाद में सुबह दस बजकर बीस मिनट से आरंभ हुआ। दोपहर बारह बजकर दो मिनट पर चरम पर रहा। दोपहर एक बजकर बावन मिनट पर मोक्ष हो गया। ग्रहण काल के दौरान लोग घरों में ही मंत्र जाप, हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ आदि करते रहे। लाइनपार में लोगों ने हवन किये। गायत्री परिवार के सदस्यों ने गायत्री मंत्र का जाप और यज्ञ किया।

ग्रहण मोक्ष होते ही स्नान-दान शुरू

मुरादाबाद। सूर्य ग्रहण के मोक्ष होते ही स्नान-दान आदि का सिलसिला शुरू हो गया। लोगों ने घरों की धुलाई और स्नान किया। उन्होंने घरों में ही पानी में गंगा जल डालकर और गंगा का भाव रखकर स्नान किया। इसी दौरान ग्रहण का दान मांगने वाले आना शुरू हो गए। गलियों से लेकर मोहल्लों तक में ‘ग्रहण का दानकी आवाज गूंजने लगी। लोगों ने खाद्यान्न के साथ कपड़ा, फल मिष्ठान, पैसे सहित राशि के अनुसार दान किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:First solar eclipse of the year seen amidst the cloudiness