DA Image
23 नवंबर, 2020|10:38|IST

अगली स्टोरी

सर्वार्थ सिद्धि योग एवं मृगशिरा नक्षत्र में चार को मनेगा करवा चौथ व्रत

default image

बिलारी। हिन्दुस्तान संवाद

कार्तिक कृष्ण पक्ष प्रतिपदा रविवार को नगर स्थित मां पीतांबरा ज्योतिष एवं वास्तु अनुसंधान केंद्र प्रमुख आचार्य ओम शास्त्री ने कहा कि चार नवंबर को प्रातः 3:24 बजे से कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि सर्वार्थ सिद्धि योग एवं मृगशिरा नक्षत्र में प्रारंभ हो रही है। चतुर्थी तिथि का समापन 5 नवंबर को प्रातः 5:14 बजे होगा। 4 नवंबर को शाम 5:34 बजे से शाम 6:52 बजे तक करवा चौथ की पूजा का शुभ मुहूर्त है। इस दिन मिट्टी के करवा में जल भरकर पूजा करना शुभ माना जाता है। इसी से रात्रि में चंद्रमा को अर्घ्य दिया जाता है। चार नवंबर को चंद्रोदय का समय 8:24 बजे का है। यह व्रत सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक रखा जाता है एवं चंद्र दर्शन के बाद व्रत खोला जाता है। चंद्रोदय से पूर्व मां पार्वती, भगवान शिव कार्तिकेय एवं गणेश सहित शिव परिवार का पूजन किया जाता है एवं पति की दीर्घायु के लिए प्रार्थना की जाती है। इस दिन सौभाग्यवती स्त्रियां अटल सुहाग की कामनाओं के लिए व्रत करती हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fasting siddhi yoga and fasting in Mrigashira nakshatra