DA Image
22 अक्तूबर, 2020|4:50|IST

अगली स्टोरी

हमलावारों की गिरफ्तारी को हड़ताल पर रहे 22 जिले के अधिवक्ता

हमलावारों की गिरफ्तारी को हड़ताल पर रहे 22 जिले के अधिवक्ता

हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए मुरादाबाद समेत वेस्ट यूपी के 22 जिलों के अधिवक्ता हड़ताल पर रहे। गुरुवार को अधिवक्ताओं ने हड़ताल के चलते न्यायिक कार्य नहीं किया। मुरादाबाद में हड़ताल के चलते बार एसोसिएशन ने जिला प्रशासन को ज्ञापन दिया। अधिवक्ताओं ने साथी से मारपीट के आरोपियेां की गिरफ्तारी व चौकी प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

मुरादाबाद में सिविल लाइंस निवासी भुवनेश गुप्ता के साथ मकान को लेकर हुए विवाद में मारपीट व जानलेवा हमला किया गया। अधिवक्ता की रिपोर्ट के बावजूद पुलिस ने आरोपियों को नहीं पकड़ा। आरोप है कि पुलिस ने रिपोर्ट में जानलेवा हमले की धारा नहीं लगाई। इसे लेकर अधिवक्ताओं ने हंगामा किया। एसएसपी दफ्तर पर हंगामे के चलते पुलिस ने मामले में हल का आश्वासन दिया। अधिवक्ताओं ने दो दिन का अल्टीमेटम दिया था। मामले में कोई कार्यवाही नहीं होती देख अधिवक्ताओं ने जनरल हाउस में आंदोलन की रणनीति तय की। हाईकोर्ट संघर्ष समिति के चेयरमैन मांगे राम ने वेस्ट यूपी में काम न करने का ऐलान किया। इसके चलते अधिवक्ताओं ने गुरुवार को वेस्ट यूपी में हड़ताल का ऐलान किया। इसी के चलते गुरुवार को 22 जिलों में अधिवक्ताओ ने न्यायिक कार्य नहीं किया। हड़ताल के चलते कचहरी परिसर में आज भी सन्नाटा पसरा रहा।

इस दौरान दि बार एसोसिएशन एंड लाइब्रेरी ने कलेक्ट्रेट पर मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन एडीएम को दिया। जिसमें अधिवक्ताओं ने साथी के साथ मारपीट के आरोपियों की गिरफ्तारी के अलावा जिम्मेदार पुलिस चौकी प्रभारी को हटाने की मांग की। इस दौरान एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय कुमार कौशिक, महासचिव अभिषेक भटनागर, आनंद मोहन गुप्ता, संजीव राघव, सचिन यादव, आदेश श्रीवास्तव, आशुतोष त्यागी, प्रमोद प्रत्येकी, पुष्प यादव, गोपाल द्विवेदी, मनोज गुप्ता, अमीरुल हसन जाफरी आदि रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Advocates of 22 district on strike to arrest attackers