DA Image
28 दिसंबर, 2020|7:58|IST

अगली स्टोरी

वास्तव में किसान नहीं बिचौलिये आंदोलित

default image

मुरादाबाद। भाजपा किसान मोर्चे ने उम्मीद जताई है किसान नए कृषि कानूनों को समझेंगे और आज सरकार के साथ होने वाली वार्ता में आंदोलन समाप्ति को हल निकलेगा। बैठक में प्रांतीय कार्यकारिणी सदस्य प्रदीप सक्सेना ने कहा तीनों नए कृषि कानून पूरी तरह किसानों के हित में हैं। मगर भाजपा द्वारा किसानों के हित में लगातार किये जा रहा कार्यों से किसानों का रुझान भाजपा की ओर हो रहा है। इससे विरोधी दल घबरा गये हैं। इसीलिए वह किसानों को गुमराह कर कर आंदोलन करवा रहे हैं। वास्तव में आंदोलित किसान नहीं बिचौलिये हैं। इन कानूनों के लागू होने से फसल का सीधा लाभ किसान को मिलेगा और बचौलिये बाहर हो जाएंगे। इसलिए वहीं लोग किसानों को गुमराह कर रहे हैं। उम्मीद है आंदोलित किसान आज वार्ता में सरकार की बात समझेंगे और आंदोलन वापस होगा। बैठक में दीपक कुमार, मंजू लता सक्सेना, नीतू, डबलू, महेंद्र, शिखा, आशीष आदि शामिल रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Actually farmers are not middlemen agitated