ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश मुरादाबादइन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट की चपेट में आया युवक, मौत

इन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट की चपेट में आया युवक, मौत

ठाकुरद्वारा। कोतवाली क्षेत्र के गांव पीपली घनश्याम में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की इन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट लगने से मौत हो गई। घटना को लेकर...

ठाकुरद्वारा। कोतवाली क्षेत्र के गांव पीपली घनश्याम में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की इन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट लगने से मौत हो गई। घटना को लेकर...
1/ 2ठाकुरद्वारा। कोतवाली क्षेत्र के गांव पीपली घनश्याम में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की इन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट लगने से मौत हो गई। घटना को लेकर...
ठाकुरद्वारा। कोतवाली क्षेत्र के गांव पीपली घनश्याम में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की इन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट लगने से मौत हो गई। घटना को लेकर...
2/ 2ठाकुरद्वारा। कोतवाली क्षेत्र के गांव पीपली घनश्याम में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की इन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट लगने से मौत हो गई। घटना को लेकर...
हिन्दुस्तान टीम,मुरादाबादTue, 28 May 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

ठाकुरद्वारा। कोतवाली क्षेत्र के गांव पीपली घनश्याम में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की इन्वर्टर का प्लग लगाते समय करंट लगने से मौत हो गई। घटना को लेकर कोहराम मच गया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के दौरान परिजनों ने विरोध किया लेकिन पुलिस ने समझाकर शव भिजवा दिया।
कोतवाली क्षेत्र के गांव पीपली घनश्याम निवासी पंकज (24) पुत्र जयपालसिंह एक फैक्ट्री में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के पद पर तैनात था। सोमवार की सुबह पंकज चौहान अपने मकान में इन्वर्टर से जाने वाली सप्लाई के लिए थ्री पिन प्लग लगा रहा था। अचानक उसे तेज करंट लगा और उसकी चीख निकली और वह बेहोश हो गया। परिजन उसे लेकर काशीपुर के अस्पताल पहुंचे लेकिन चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया।

कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने का प्रयास करने लगी। मृतक के परिजनों ने इसका विरोध किया लेकिन उपनिरीक्षक छविनाथ सिंह और क्राइम इंस्पेक्टर नरेश कुमार के समझाने पर परिवार के लोग शव का पोस्टमार्टम करने के लिए तैयार हो गए।

चार भाइयों का लाडला था पकंज

ठाकुरद्वारा। विजयपाल सिंह के पांच बेटे हैं। पंकज चार भाइयों राजीव सत्येंद्र राजगीर और योगराज का लाडला था। बुरी तरह बिलखते हुए उसकी भाभी अनीता देवी बार-बार कह रही थी कि उन्होंने बेटे की तरह देवर को पाला था। उनका देवर के सिर से सेहरा बंधा देखने का सपना अधूरा रह गया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।