DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डमरू वाले बाबा तेरी लीला है न्यारी...

डमरू वाले बाबा तेरी लीला है न्यारी...

सावन के पावन माह में शिव कांवड़ियों की आस्था नजर आने लगी है। कांवड़ियों में भक्ति का जोश दिखाई देने लगी है। हरिद्वार व बृजघाट से जल भरकर लाने वाले शिव बेड़े बड़ी संख्या में मंदिरों में आखिरी सोमवार तक पहुंचते हैं। सबसे अधिक कांवड़ कामेश्वर नाथ मंदिर में चढ़ाई जाती हैं।

सिद्धपीठ श्री झाड़खंडी मंदिर भी विशेष रूप से कांवड़ियों का शरण स्थल रहता है। जोगिया वस्त्र में सजे- संवरे कांवड़ियों के बेड़े रविवार को ही पूरी धूम के साथ गुजरते दिखाई दिए। धार्मिक गीतों पर थिरकते इन बेड़ों में शामिल कांवड़ियों की जुबां पर भोले का नाम रहा। मीलों लम्बी यात्रा कर मन में गंतव्य तक पहुंचने का लक्ष्य इन कांवड़ियों में शुरू से ही नजर आने लगता है। अधिकांश कांवड़िये सावन के दूसरे सोमवार तक अपनी कांवड़ में जल भरके मंदिरों में चढ़ाने के लिए पहुंचना शुरु कर देते हैं।

मुख्य मार्गों पर जुटने लगे शिव भक्त

कांवड़ियो के बेड़ो को देखने के लिए मुख्य मागार्ें पर शिव भक्तों की भीड़ जमा होने लगी है। हर- हर बम- बम, जयकारा वीर बजरंगी, बोल हर हर महादेव जैसे भोले के जयकारे जब एक स्वर में सभी कांवड़ियों द्वारा पूरे जोश के साथ लगने लगे हैं।

सेवा शिविर में होता सत्कार

शहर में दिल्ली व कांठ रोड से सर्वाधिक कांवड़िये गुजरते हैं। इन मागार्े से होकर गुजरने वाले व शहर में प्रवेश करने वाले शिव भक्तों के लिए विशेष सेवा शिविर सजाए जाते हैं। भोले की टोली। भोले का रेला। ऐसे कई नाम के साथ रेले भक्ति का प्रवाह करते हैं। शिविरों में कांवड़ियों के जलपान से लेकर विश्राम व चिकित्सा के मुकम्मल इंतजाम किए जाते हैं।

कांवड़ियों के घरों में रहता परहेज

कांवड़ लाने के दौरान घरों में भी पूरा परहेज किया जाता है। इस दौरान खानपान संबंधी पूरा परहेज किया जाता है। चतुर्दशी का जल चढ़ जाने से पहले घर में किसी प्रकार का छौंक आदि नहीं लगता है। इस दौरान सादा खाना ही खाया जाता है। घर में किसी प्रकार के अभद्र शब्द नहीं बोले जाते हैं। बच्चों और जानवरों के प्रति हिंसात्मक रवैया नहीं अपनाया जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 37/5000 damaroo vaale baaba teree leela hai nyaaree... Damru baad tera leela hai naayari ...