अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाउंड्री वाल न होने से प्राथमिक विद्यालय बघवा गंदगी से पटा

बाउंड्री वाल न होने से प्राथमिक विद्यालय बघवा गंदगी से पटा

बाउंड्री बॉल न होने से प्राथमिक विद्यालय बघवा पूरी तरह गंदगी से पटा है। स्कूल जाने वाले बच्चे गंदगी से होकर ही गुजरते हैं और पर्यावरण भी पूरी तरह प्रदूषित हो रहा है। जिससे विभिन्न प्रकार की बीमारियां भी फैल रही हैं। इसके अलावा विद्यालय की इमारत जीर्णशीर्ण अवस्था में पहुंच चुकी है जिससे कभी भी कोई घटना हो सकती है। जिससे बच्चों के साथ-साथ शिक्षक भी दहशतजदा हैं।

स्वच्छता भारत मिशन का सपना प्राथमिक विद्यालय बघवा में चकनाचूर हो रहा है। यहां बाउंड्री बाल न होने से विद्यालय प्रांगण में गंदगी का अंबार व्याप्त है। जिससे स्कूल पढ़ने आने वाले बच्चों को इसी गंदगी से होकर गुजरना पड़ता है। इसके अलावा विद्यालय परिसर में मात्र एक हैंडपम्प लगा है जहां भी गंदगी व्याप्त है। मिडडेमील खाने के बाद बच्चे यही दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। शौचालय भी जीर्णशीर्ण होने से ताला लटका दिया गया है जिससे बच्चों को बाहर मैदान में ही शौचक्रिया को जाना पड़ता है। इसके अलावा विद्यालय की इमारत भी जीर्णशीर्ण अवस्था में पहुंच चुकी है। जिससे बच्चों के साथ-साथ शिक्षा ग्रहण कराने वाले शिक्षक भी बेहद दहशत जदा हैं। अभिभावक छोटेलाल वर्मा, गुलाब सिंह, जयहिंद , रामआसरे, रमेश तिवारी आदि ने बताया कि शिक्षा तो बेहरत मिल रही है लेकिन व्यवस्थाएं पूरी तरह चौपट हैं। जिससे उनके बच्चों को विभिन्न प्रकार की बीमारियों से जूझना पड़ रहा है। मांग की है कि शीघ्र ही बाउंड्री बॉल का निर्माण कराया जाए और गंदगी की समस्या से निजात दिलाई जाए। उधर मामले में प्रधानाध्यापिक रजिया खातून कहती हैं कि वह प्रकरण से उच्चाधिकारियों को अवगत करा चुकी हैं। सफाई व्यवस्था के लिए निजी सफाई कर्मचारी लगाकर सफाई करा रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Due to lack of boundary walls see primary school get rid of dirt