DA Image
1 नवंबर, 2020|10:33|IST

अगली स्टोरी

खून से खत लिखकर बुंदेलखण्ड राज्य की मांग

खून से खत लिखकर बुंदेलखण्ड राज्य की मांग

पृथक बुंदेलखण्ड की मांग को लेकर बुंदेलों ने खून से खत लिखकर फिर अपनी आवाज बुलंद की। काले कपड़े पहनकर बुंदेलों ने काला दिवस मनाकर विरोध जताया। कहा कि पृथक बुंदेलखण्ड के बिना क्षेत्र का विकास नही संभव नहीं है।

रविवार को पूर्व नियोजित कार्यक्रम के तहत बुंदेली समाज ने आल्हा चौक पर काला दिवस मनाते हुए खून से खत लिखकर पृथक राज्य की मांग को बुलंद किया। बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकार ने कहा कि एक नवम्बर को देश के मध्य-प्रदेश, छत्तीसगढ़, पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक, केरल जैसे राज्यों का स्थापना दिवस है। मगर बुंदेलखण्ड के लिए यह काला दिवस है। एक नवम्बर 1956 को जब मध्य-प्रदेश का गठन हुआ तब बुंदेलखण्ड को उत्तर-प्रदेश और मध्य-प्रदेश में बांटकर भारत के मानचित्र से मिटा दिया गया। तब से बुंदेलखण्ड दोनेां राज्यों के बीच पिस रहा है। बुंदेली समाज के महामंत्री डॉ. अजय बरसैया ने कहा कि लंबे समय से बुंदेले पृथक बुंदेलखण्ड की मांग कर रहे हैं। अबतक 9 बार खून से खत लिखकर मांग की गई है। लेकिन पृथक राज्य की मांग अबतक पूरी नहीं हुई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Demand for Bundelkhand state by writing letters with blood