DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मिर्जापुर › पराली प्रबंधन पर जिला पंचायत सभागार में हुई कार्यशाला
मिर्जापुर

पराली प्रबंधन पर जिला पंचायत सभागार में हुई कार्यशाला

हिन्दुस्तान टीम,मिर्जापुरPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 03:11 AM
पराली प्रबंधन पर जिला पंचायत सभागार में हुई कार्यशाला

मिर्जापुर। संवाददाता

जिला पंचायत सभागार में “प्रमोशन आफ एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशन फार इन सीटू आफ क्राप रेजीड्यू” योजनान्तर्गत डीएम प्रवीण कुमार लक्षकार की अध्यक्षता में गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में डीएम ने पराली प्रबन्धन के लिए अच्छे किसानों में मुकेश पाण्डेय, सीखड़ व जोगेन्द्र कुमार सिंह को माला पहनाकर सम्मानित किए। उन्होने अन्य किसानों से पराली न जलाने का अनुरोध किए।

डीएम ने कहा कि यदि किसान के पास पराली ज्यादा है तो उसे गो आश्रय स्थल को उपलब्ध कराए। मुख्य विकास अधिकारी श्रीलक्ष्मी वी.एस. ने किसानों का अवाह्न करते हुए कहा कि पराली को खाद के रूप में उपयोग करके जैविक खेती करें। उप कृषि निदेशक अशोक उपाध्याय ने किसानों को बताया कि पराली प्रबन्धन के लिए जनपद के समस्त विकास खण्डों में एक-एक फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना ग्राम पंचायत/किसान सहकारी समिति स्तर पर की जायेगी। किसान इसका उपयोग कर पराली का प्रबन्धन कर सकते है। उप निदेशक उपाध्याय ने किसानों को पराली न जलाने के लिए प्रेरित किए। नरेंद्र देव कृषि विज्ञान केंद्र फैजाबाद के वैज्ञानिक डा. एमपी सिंह ने फसल अवशेष प्रबन्धन के साथ ही साथ समसामयिक फसलों में रोग व कीटों के निदान पर विस्तृत रूप से चर्चा की। उद्यान विभाग के पुष्पेन्द्र त्रिपाठी ने अपने विभागीय योजनाओं के साथ-साथ पराली का मल्चिंग के रूप में किसानों को प्रयोग करने की जानकारी दी। जनपद सलाहकार डा. सुधीर श्रीवास्तव ने किसानों को फसल अवशेष प्रबन्धन के साथ ही साथ पौधों में पोषक तत्वों व हार्मोन्स पर विस्तृत रूप से चर्चा की। विकास खण्ड सीखड़ के किसान योगेन्द्र कुमार सिंह ने फसल अवशेष प्रबन्धन के बारे में डीकम्पोजर के माध्यम से पराली को किस प्रकार से सड़ाकर खाद के रूप में प्रयोग करे इसकी जानकारी दी। साथ ही किसानों को नि:शुल्क डिकम्पोजर देने का आवाह्न किया। गोष्ठी का संचालन डा. सुधीर श्रीवास्तव ने किया। गोष्ठी का समापन भूमि संरक्षण अधिकारी, राष्ट्रीय जलागम जीत लाल गुप्ता ने किया।

संबंधित खबरें