DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूक्ष्मजीवी जीवाणु सुरक्षा के लिए आवश्यकः डा. गोपाल नाथ

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के बरकछा स्थित राजीव गाँधी दक्षिणी परिसर में बुधवार को पं.दीन दयाल उपाध्याय कौशल केन्द्र की तरफ से आयोजित तीन दिवसीय सतत मेडिकल शिक्षा कार्यक्रम का समापन ओरियेन्टेशन के साथ हुआ। व्याख्यान संकुल में आयोजित ओरियेन्टेशन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि चिकित्सा विज्ञान संस्थान के माइक्रो बायोलॉजी विभाग के वरिष्ठ प्रोफेसर डा. गोपाल नाथ ने महामना पं. मदन मोहन मालवीय की पऱितमा पर माल्यापर्ण कर कार्यकऱम का शुभारम्भ किया।  उन्होंने कहाकि सूक्ष्मजीवी जीवाणुओं से शरीर की सुरक्षा के लिए बेहतर जॉच परीक्षण तकनीक की खोज की गयी है। ग्रामीण क्षेत्रों में पनप रहे झोला छाप डाक्टरों से लोगों को आगाह करते हुए कहाकि एमएलटी पाठ्यक्रमों के छात्र.छात्राएं इस विषय में जागरूकता हासिल कर उसका प्रचार. प्रसार करें। 
माइक्रो बायोलॉजी विभाग के शोध वैज्ञानिक डॉ. मयंक गंगवार ने जीवाणुओं पर हो रहे नये शोध से छात्र.छात्राओं को अवगत कराया। कार्यक्रम के दौरान वीओक,एमएलटी तृतीय बैच के छात्र.छात्राओं को इन्टर्नशिप के प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। इस अवसर पर डीडीयू कौशल केन्द्र के डॉ अशोक कुमार यादव,विवेक मिश्रा,डा. रजनी श्रीवास्तव एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।कार्यक्रम की विषय स्थापना डीडीयू कौशल केन्द्र के समन्वयक डॉ. रत्न शंकर मिश्र तथा संचालन एमएलटी पाठ्यक्रम के सहायक प्राध्यापक डा.आरआर मिश्रा ने किया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Required for Microbial Bacterial Security Dr Gopal Nath