अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएचसी में प्रसूताओं को नहीं मिलता नाश्ता-खाना

सीएचसी में एक पखवारे से प्रसूताओं को राशन के अभाव में नाश्ता-खाना नहीं मिल रहा है। ऐसी स्थिति में मरीजों को घर से खाना मंगाना पड़ता है। परिजनों का आरोप है कि मरीजों के लिए स्वास्थ्य विभाग की महत्वाकांक्षी योजना का पैसा ठेकेदार हजम कर रहे हैं। सब कुछ जानते हुए भी अधिकारी चुप्पी साधे हैं। रसोइयों के मुताबिक ठेकेदार राशन तो दूर नाश्ता भी नहीं दे रहा है। सात महीने से मानदेय का भुगतान नही किया जा रहा है। परिवार भुखमरी की कगार पर है।इस संबंध में मड़िहान सीएचसी के अधीक्षक डा.कौशल कुमार मौर्य का कहना है कि राशन न होने की जानकारी ठेकेदार को दे दी गयी है। जिला प्रशासन को भी पत्र लिखा जाएगा। सीएचसी में एक माह में लगभग चार दर्जन प्रसूताओं को प्रसव कराया गया। चौबीस घंटे में मानक के अनुसार एक बार नाश्ते में दूध-अंडा व भोजन में दो बार रोटी, चावल व दाल दिया जाना है। अगस्त से राशन के अभाव में प्रसूताओं को नाश्ता-पानी नहीं दिया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:pregnent ladies dont get food and breakfast