DA Image
1 अप्रैल, 2020|1:01|IST

अगली स्टोरी

शारदीय नवरात्र के पहले ही दिन पुलिस और पंडा हुए आमने सामने

शारदीय नवरात्र के पहले ही दिन पुलिस और पंडा हुए आमने सामने

मां विंध्यवासिनी की नगरी में गुरुवार से शुरू हुए शारदीय नवरात्र के पहले ही दिन पुलिस और पंडा समाज के लोग आमने सामने हो गए। पंडा समाज की ओर से पुलिस प्रशासन पर सख्ती के नाम पर तीर्थपुरोहितों के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। दोनों पक्ष के लोगों को शांत कराने में नगर विधायक व तीर्थपुरोहित रत्नाकर मिश्र ने पुल की भूमिका अदा किए। दोनों पक्षों को प्रशासनिक भवन में बैठाकर हल निकलवाया। डीएम और एसपी ने भी भरोसा दिलाया कि वह व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए रात दिन लगे हैं। 

नवरात्र मेला में पिछले वर्षों की तुलना में इस बार कुछ ज्यादा सख्ती दिखायी जा रही है। पहले अतिक्रमण के नाम पर झोपड़ियों और गंगा के तट पर माला फूल बेचकर आजीविका चलाने वालों को उजाड़ा गया। इसके बाद मंदिर की ओर जाने वाली गलियों में तोड़फोड़ की गई। इसी बीच नवरात्र के पहले ही मंदिर पर तीर्थपुरोहितों के साथ ही दर्शनार्थियों के बैठकर जप करने पर रोक लगाया गया। एसपी से लोगों ने शिकायत की तो उन्होंने तीर्थपुरोहितों को ही गलत बताया। इससे पंडा समाज के लोग आक्रोशित हो गए और पहले मंदिर के उपरी तल पर स्थित श्री विंध्य पंडा समाज के कार्यालय में अध्यक्ष राजन पाठक की अध्यक्षता में बैठ किए। सूचना पर नगर विधायक रत्नाकर मिश्र भी पहुंच गए। यहां से भी बात नहीं बनी तो वह तीर्थपुरोहितों को लेकर प्रशासनिक भवन में पहुंचे। यहां डीएम और एसपी के साथ दो घंटे तक चली बैठक हुई। 

डीएम बिमल कुमार दुबे ने कहाकि वे और एसपी सुबह मन्दिर पहुंचे तो दर्शनार्थियों को हो रही असुविधा को देखे। गर्भगृह व झरोखे के सामने तीर्थपुरोहित खड़े रहे। मेरा सिर्फ यही कहना था दर्शनार्थियों को अच्छे से दर्शन करने दें। इसमें पीड़ा की कोई बात नहीं है। एसपी आशीष तिवारी ने कहाकि वे किसी की रोजी रोटी नहीं छीनना चाहते बस मन्दिर व यातायात व्यवस्था सुदृढ़ रहना चाहिए। गर्भगृह में भीड़ एकत्रित न हो। मेले में कोई दुर्घटना नहीं होनी चाहिए। पंण्डा समाज के अध्यक्ष ने कहाकि हम आपके साथ मिलकर ही व्यवस्था बनाएंगे। नगर विधायक ने कहाकि मेले में थोड़ी बहुत दिक्कतें होती हैं। नौ दिन का नवरात्र है कि इसे शांतिपूर्ण निपटाने की जरूरत है। इस मौके पर बड़ी संख्या में तीर्थपुरोहित मौजूद रहे। 
 
नौ दिनी अखंड भंडारा का हुआ शुभारंभ,भक्त जुटे
शारदीय नवरात्र में नौ दिनों तक चलने वाले भंडारे का विंध्याचल में शुभारंभ हुआ। अमर सिंह फैंस एसोसिएशन व मां विन्ध्यवासिनी सेवा समिति के तत्वाधान में शुरु हुए भंडारे का उद्घाटन संस्था के अध्यक्ष व कोलाकाता के पार्षद विजय उपाध्याय ने किया। भंडारा स्थल पर अलग -अलग काउंटर पर स्वयं सेवक पंक्तिबद्ध कराकर अन्नहार एवं फलहार किए। अन्नहार में पहले दिन पूड़ी सब्जी एवं हलवा का वितरण एवं फलहार रखने वाले भक्तों के लिए आलू की पकौड़ी कट्टू की खिचड़ी अनारदाना, आलू की नमकीन शामिल रही। माता के भंडारे का समय दिन में 11 बजे से दो बजे दोपहर तक और शाम को सात बजे से रात को 11 बजे तक निर्धारित है। प्रतिदिन सुबह एवं शाम को माता रानी को थाल सजाकर भोग लगाने के बाद प्रसाद वितरण प्रारम्भ होता है। संस्था की ओर से प्रस्तावित वृद्धाश्रम पर सतचंडी यद्म का भी आयोजन किया गया है। यद्मशाला में विद्वान पंडितों की ओर से पाठ किया जा रहा है। त्रिकोड़ यात्रियों के विश्राम करने की निशुल्क व्यवस्था भी इसी प्रांगण में की गयी है। सेवा भाव करने वालों में अखिलेश्वर पति त्रिपाठी, शंकर विन्द, प्रभात जायसवाल, बबवा गुरु, दिनेश्वर पति त्रिपाठी, पप्पू सिंह आदि शामिल हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:police and the panda face same day on first day of Navaratri