DA Image
28 जनवरी, 2021|6:09|IST

अगली स्टोरी

बरसात से कई गांव में गिरे मकान, आठ लोग घायल

बरसात से  कई गांव में गिरे मकान, आठ लोग घायल

1 / 2जिले के अलग-अलग स्थानों पर बुधवार की रात हुई तेज बरसात से कई मकान गिर गए। मकान के मलबे की चपेट में आने से आठ लोग घायल हो...

बरसात से  कई गांव में गिरे मकान, आठ लोग घायल

2 / 2जिले के अलग-अलग स्थानों पर बुधवार की रात हुई तेज बरसात से कई मकान गिर गए। मकान के मलबे की चपेट में आने से आठ लोग घायल हो...

PreviousNext

जिले के अलग-अलग स्थानों पर बुधवार की रात हुई तेज बरसात से कई मकान गिर गए। मकान के मलबे की चपेट में आने से आठ लोग घायल हो गए। घायलों को इलाज के लिए स्थानीय चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। बरसात से गांवों में जल जमाव हो जाने से लोगों को आने-जाने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। ड्रमंन्डगंन्ज संवाद के अनुसार लालगंज थाना क्षेत्र के कनोखर गांव निवासी सीताराम के घर पर पोस्ट आफिस हैं।सीताराम के लड़के हरीशंकर पोस्ट मास्टर हैं सुबह ही कुछ लोग अंगूठा लगाकर पैसा निकालने आए थे। घर-परिवार के लोग मकान के बाहर बारजे के नीचे बैठे थे। तभी अचानक मकान का बारजा भर-भर कर गिर गया। इस हादसे में चार लोग घायल हो गए। इसमें दो लोग गंभीर रूप से घायल हुए विजय कुमार 35, आशीष कुमार 22 को गंभीर चोट लगी है। वहीं चंन्द्रशेखर 40और उमेशचंद्र 65को भी चोट लगीं। मौक़े पैर पहुंची लालगंज पुलिस ने सभी घायलों की ईलाज के लिए एक निजी चिकित्सालय ले गई। घायलो में मकान मालिक सीताराम के परिवार के तीन लोग है। गांव के उमेशचंद्र पैसा निकालने आए थे। इस हादसे में चार मोटरसाइकिल भी टूट गई। जिगना संवाद के अनुसार थाना क्षेत्र के देवरी बरहां गांव मे बीती रात पेड़ गिरने से सोनकर बस्ती मे इंदिरा आवास व झोपड़ी टूट - फूट गई। पोल व तार टूट जाने से विद्युत आपूर्ति व्यवस्था ठप हो गई।परिवार की महिलाएं व बच्चे चोटहिल हो गए। मकान मालिक लालमनि सोनकर ने बताया कि बीती रात एक बजे जब परिवार के लोग गहरी नींद मे सो रहे थे तभी पिछवाड़े से भारी - भरकम पुराना पेड़ गिर पड़ा। पांच साल पहले बने इंदिरा आवास के पक्के कमरे की छत टूट - फूट गई तथा दीवार भी दरक गई। पेड़ की डाल की चपेट मे दो झोपड़ियां धराशाई हो गई। छत व दीवार के टुकड़े व ईंट गिरने से अंगूरा 45 देवी करीना 8 रवीना 6 ऊषा देवी 22 आयुष 12 चोटहिल हो गए। गांव के ही एक निजी चिकित्सक से उनका इलाज कराया गया। महिलाएं व बच्चे पक्के कमरे मे जबकि पुरुष सदस्य झोपड़ी मे सो रहे थे। मकान मालिक ने बताया कि परिवार के लोग अक्सर छत पर ही सोते थे। बुधवार की रात बरसात के चलते कोई भी छत पर सोने नहीं गया वरना गंभीर हादसा हो सकता था। वैसे भी बिजली के पोल व पक्का कमरा होने के कारण झोपड़ी मे सो रहे लोगों की जान बच गई। प्रधान राम छबीले निषाद ने बताया कि उप जिलाधिकारी सदर को पेड़ गिरने से हुई क्षति के बारे में बताया गया है। उन्होंने मौके पर राजस्व कर्मियों को भेजकर क्षति का आंकलन करने का निर्देश दिए है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Houses fell in many villages due to rain eight people injured