ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश मिर्जापुरलीकेज पाइप को बंद कराने और टोटी लगवाने की उठी आवाज

लीकेज पाइप को बंद कराने और टोटी लगवाने की उठी आवाज

जमालपुर, हिन्दुस्तान संवाद। स्थानीय विकास खंड के सभागार में सोमवार को गांवों में पेयजल...

लीकेज पाइप को बंद कराने और टोटी लगवाने की उठी आवाज
लीकेज पाइप को बंद कराने और टोटी लगवाने की उठी आवाज
हिन्दुस्तान टीम,मिर्जापुरTue, 25 Jun 2024 12:00 AM
ऐप पर पढ़ें

जमालपुर, हिन्दुस्तान संवाद।
स्थानीय विकास खंड के सभागार में सोमवार को गांवों में पेयजल की समस्या को लेकर हुई एक बैठक में ग्राम प्रधानों ने इस योजना के तहत हुए कार्यों को लेकर समस्याओं की झड़ी लगा दी। किसी ने दिए गए कनेक्शन को अधूरा बताया तो किसी ने कनेक्शन दिए जाने के बाद अब तक पानी की आपूर्ति न किए जाने की शिकायत दर्ज कराई। कुछ ने टोटी ही न लगाने की बात उठाई। इन समस्याओं के निदान के लिए अधिकारियों ने आश्वासन दिया।

बीडीओ कुलदीप कुमार सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में विकास क्षेत्र के अधिसंख्य ग्राम प्रधानों ने गांवों में जलजीवन मिशन योजना का कनेक्शन अधूरा दिए जाने की शिकायत दर्ज कराई। ग्राम पंचायत धारा में आधा अधूरा कनेक्शन कार्य कराये जाने कि शिकायत हुई। बताया गया कि इसके चलते ग्राम पंचायत में पानी की आपूर्ति नहीं हो रही है।

ग्राम पंचायत बहुआर में प्रधान प्रतिनिधि सुरेंद्र सिंह ने बताया कि करीब 100 घरों में टोटी ही नहीं लगाई गई है। 40 घरों में कनेक्शन नहीं दिया गया है। पानी टंकी तक बनाए गए सीसी रोड को ध्वस्त कर छोड़ दिया गया है। उसकी मरम्मत तक नहीं करवाई गई है। ग्राम पंचायत हरदी सहिजनी के ग्राम प्रधान नरसिंह चौहान ने बताया कि सड़क किनारे लगाए गए सप्लाई पाईप का ढक्कन खराब हो गए हैं पानी बीच से निकल कर बह जा रहा है।

सकरौड़ी ग्राम प्रधान कंचन चौहान ने ग्राम पंचायत में पानी की आपूर्ति न किए जाने की शिकायत दर्ज कराई। चरगोड़ा ग्राम प्रधान राम प्यारे ने बताया कि पाइप लाइन बिछाने के लिए सड़क खोदकर छोड़ दिया गया है, जो अभी तक नहीं बनी। गांवों में बहुत से घरों में टोटी नही दिया गया है। इस दौरान अधिकारियों ने इन समस्याओं के जल्द निराकरण का आश्वासन दिया। इस आश्वासन पर प्रधानों को भरोसा नहीं हुआ। उनका कहना है कि यह समस्याएं कई बार अधिकारियों के सामने रखी जा चुकी हैं। हर बार सिर्फ आश्वासन ही मिलता है। निदान नहीं होता।

इस दौरान निर्माणदायी संस्था मेघा कंपनी के अधिकारी, ग्राम प्रधान सतीश कुमार सिंह, आनंद सिंह, दीपक कन्नौजिया, पुनीत चौबे, रविशरण गुप्ता, वीरेंद्र यादव, जयचंद चौहान, सुरेश चौहान, दिनेश बियार, जय सिंह, बबलू सिंह, सुशील सिंह, दयाराम सिंह, अनिल सिंह सहित तमाम ग्राम सचिव उपस्थित रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।