ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश मेरठयुवक ने किया सुसाइड का प्रयास,आईजी ने बचाया

युवक ने किया सुसाइड का प्रयास,आईजी ने बचाया

आईजी ऑफिस के बाहर तेल उड़ेलकर सुसाइड का प्रयास - कार में बैठकर जा रहे

युवक ने किया सुसाइड का प्रयास,आईजी ने बचाया
हिन्दुस्तान टीम,मेरठSun, 25 Feb 2024 02:10 AM
ऐप पर पढ़ें

मेरठ। सिविल लाइन पुलिस की फटकार और कार्यशाली से नाराज एक व्यक्ति ने आईजी ऑफिस के बाहर शनिवार रात को ज्वलनशील पदार्थ अपने ऊपर उड़ेलकर सुसाइड का प्रयास किया। इस दौरान अपने आवास से बाहर निकल रहे आईजी की नजर व्यक्ति पर पड़ गई और उन्होंने ऐन मौके पर उसे बचा लिया। हालांकि ज्वलनशील पदार्थ पीने के कारण व्यक्ति को अस्पताल भेजा गया। फिलहाल इस मामले में छानबीन शुरू की गई है।

सिविल लाइन के संजय नगर निवासी अनिल कुमार का उनके छोटे भाई से विवाद चल रहा है। अनिल का आरोप है कि उनके भाई और बच्चे लगातार उन्हें परेशान कर रहे हैं। इस मामले में सिविल लाइन पुलिस को शिकायत दी थी, लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की। अनिल का आरोप था कि उन्हें थाने से फटकार लगाकर भगा दिया गया था। इसी बात से नाराज होकर शनिवार रात को करीब 8.30 बजे अनिल मेरठ रेंज के आईजी नचिकेता झा के आवास के बाहर पहुंचा और वहां खुद पर ज्वलनशील पदार्थ उड़ेलकर कुछ ज्वलनशील पदार्थ पी भी लिया। अनिल ने खुद को आग लगाने का प्रयास किया। इसी दौरान आईजी मेरठ अपने काफिले के साथ आवास से बाहर निकल रहे थे। आईजी की नजर अनिल पर पड़ गई और वह मामला भांप गए। आननफानन में अनिल खुद को आग लगने वाले थे और ऐन मौके पर आईजी ने गाड़ी रुकवा कर अनिल को अपनी टीम के साथ मिलकर बचा लिया। हालांकि ज्वलनशील पदार्थ पीने के कारण अनिल की तबीयत खराब हो गई थी। इसके बाद सिविल लाइन पुलिस और सीओ सिविल लाइन को मौके पर बुलाया गया। फिलहाल अनिल को अस्पताल भिजवाया गया है, जहां उनकी हालत खतरे से बाहर बताई गई है। इस संबंध में आला अधिकारियों ने अनिल के परिजनों को सूचना देकर बुलाया। फिलहाल इस मामले में पुलिस जांच में लगी है।

इंस्पेक्टर सिविल लाइन में नहीं उठाया सीयूजी

मेरठ के कई थानेदार अपनी लापरवाही के चलते इन दिनों चर्चाओं में है। कोई इंस्पेक्टर एनकाउंटर से ठीक पहले थाने का चार्ज छोड़कर लापता हो जाता है, जबकि कई थानेदारों की लापरवाहियां बड़े स्तर पर सामने आ रही हैं। ऐसे में हाल फिलहाल में कई पुलिसकर्मियों पर गाज भी गिरी है। आईजी ऑफिस के बाहर पीड़ित के सुसाइड के प्रयास की घटना के बाद सिविल लाइन इंस्पेक्टर ने भी सीयूजी नंबर उठाना बंद कर दिया। देर रात तक उन्होंने किसी के फोन नहीं उठाए।

-------------

अनिल कुमार नाम का एक व्यक्ति शनिवार रात आईजी ऑफिस पर पहुंचा था, जहां से उन्हें सीओ सिविल लाइन ने अस्पताल पहुंचाया है। अनिल को उसके भाई और बच्चे परेशान करते हैं। बाकी पूरे प्रकरण की जानकारी की जा रही है।

रोहित सिंह सजवाण, एसएसपी मेरठ।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें