DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा पर रासुका की हुई सुनवाई

बुधवार को लखनऊ में यूपी एडवाइजरी बोर्ड में बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा पर रासुका के मामले की सुनवाई हुई। योगेश वर्मा को पुलिस हिरासत में एडवाइजरी बोर्ड के सामने पेश किया गया। पति के पक्ष में मेयर सुनीता वर्मा भी अधिवक्ताओं के पैनल के साथ मौजूद रही। डीएम अनिल ढींगरा, एसएसपी राजेश पांडे ने बोर्ड के सामने कानून-व्यवस्था को लेकर मजबूती से तर्क रखे। बोर्ड का कोई फैसला शाम तक नहीं हुआ।

बुधवार को लखनऊ में रासुका को लेकर यूपी एडवाइजरी बोर्ड के समक्ष पांच मामलों की सुनवई थी। पूर्व विधायक योगेश वर्मा के मामले का नंबर पांचवां था। दोपहर बाद लगभग चार बजे के आसपास सुनवाई हुई। योगेश वर्मा और उनके अधिवक्ताओं ने रासुका की कार्रवाई को आधारहीन बताया। बोर्ड के समक्ष कहा गया कि केवल राजनैतिक प्रतिद्वन्दिता के कारण यह सारी कार्रवाई हुई है। दो अप्रैल की हिंसा से कोई मतलब नहीं था।

डीएम, एसएसपी ने दो अप्रैल की हिंसा की घटनाओं से संबंधित सारे रिकार्ड, 13 मुकदमों का ब्योरा आदि रखा। यह भी बताया कि रासुका की कार्रवाई कानून-व्यवस्था को लेकर की गई है। आरोपों का पुलिन्दा डीएम, एसएसपी की ओर से बोर्ड के सामने रखा गया। शाम तक बोर्ड के फैसले का इंतजार किया जाता रहा, लेकिन कोई फैसला नहीं हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:yogesh verma