DA Image
31 अक्तूबर, 2020|6:40|IST

अगली स्टोरी

जंगली जानवर

default image

मवाना। संवाददाता

फलावदा क्षेत्र के गांव गुड़ंब में मंगलवार रात तेंदुए जैसे जंगली जानवर ने किसान ज्ञान सिंह के घर में बंधे पशुओं पर हमला बोल दिया। घर में सो रहे ज्ञान सिंह को जैसे ही पशुओं की आहट सुनाई दी तो उन्होंने शोर मचा दिया। शोर सुनकर आसपास के लोग इकट्ठा हो गए। उन्हें देखकर जंगली जानवर मौके से भाग गया। ज्ञान सिंह ने बताया कि यदि शोर न मचाता तो जंगली जानवर उसके पशुओं का निवाला बना लेता। गांव में जंगली जानवर के घुसने को लेकर सभी ग्रामीण भयभीत हो गए।

हंगामा करने वाले वेदप्रकाश आर्य, सेठ पाल, देवेंदर, चिंताराम, राजेंद्र चेयरमैन, पीतम सिंह, कालूराम, राजकुमार, विकास, सतीश, सुधीर,अरुण, सुशील, आशीर्वाद ने बताया कि पिछले एक माह के अंतराल में जंगली जानवर अब तक दो दर्जन से अधिक गोवंश को खा गया है। अब तो जंगली जानवर ने गांव में आना शुरू कर दिया। मंगलवार रात उसने घर में बंधे पशुओं पर हमला बोल दिया। कहा कि वन विभाग के अधिकारी दलील देते हैं कि उनके गांव में कोई जंगली जानवर नहीं है। जंगली बिल्ली की संभावना जताते हैं, जबकि रात को ज्ञान सिंह के घेर में पशुओं पर हमला कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि यदि जंगली जानवर ने किसी पुरुष या महिला पर हमला किया तो सभी ग्रामीण वन विभाग की टीम के अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराएंगे। वहीं डिप्टी रेंजर विनोद कुमार का कहना है कि एक सप्ताह पूर्व उन्होंने गांव के जंगल में जंगली जानवर को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाया था, लेकिन कई दिन बीतने के बाद भी जंगली जानवर नहीं पकड़ा जा सका। यदि जंगली जानवर दोबारा गांव में आ गया है तो उसे पकड़ने के लिए अभियान चलाया जाएगा।

डर से पहरा लगाने लगे ग्रामीण

ग्रामीणों ने अपने-अपने मोहल्लों में पूरी रात पहरा लगाना शुरू कर दिया है। जंगली जानवर की दहशत के कारण किसान खेतों में काम करने नहीं जा रहे हैं। महिलाएं व बच्चे घरों से नहीं निकल रहे हैं। गांव के ही मुन्नू नेता ने बताया कि मंगलवार सुबह जब वह अपने खेत पर गए तो उनके खेत में तीन मतृ गीदड़ों के अवशेष पड़े मिले। उन्हें जंगली जानवर ने हमला करके अपना शिकार बनाया होगा।