DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  पिछले वर्ष के मुकाबले कई गुना अधिक खरीदा गया गेहूं
मेरठ

पिछले वर्ष के मुकाबले कई गुना अधिक खरीदा गया गेहूं

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Wed, 16 Jun 2021 04:21 AM
पिछले वर्ष के मुकाबले कई गुना अधिक खरीदा गया गेहूं

मवाना। संवाददाता

मवाना में हस्तिनापुर रोड स्थित नवीन मंडी परिसर में मंगलवार को शाम छह बजे तक गेहूं खरीद होती रही। पिछले वर्ष से पांच गुना अधिक गेहूं की खरीद हुई है। तीनों केन्द्र की पॉश मशीन शाम छह बजे बंद हो गईं। वहीं, मंगलवार शाम को गेहूं खरीद की अंतिम तिथि बढ़ाकर 22 जून कर दी।

हस्तिनापुर रोड स्थित कृषि उत्पादन मंडी समिति परिसर में भारतीय खाद्य निगम, प्रादेशिक कोऑपरेटिव फेडरेशन और आदर्श बहुउदे्दश्य कृषि उत्पादन सहकारी समिति मवाना के गेहूं खरीद केंद्र स्थापित हैं। तीनों खरीद केंद्र एक अप्रैल से खुल गए थे। ग्राम पंचायत चुनाव निपटते ही तीनों केंद्रों पर किसान गेहूं बेचने को अधिक संख्या में आने लगे थे। मंगलवार को गेहूं से भरी ट्रॉलियां खड़ी रही। शाम छह बजे तक गेहूं खरीद होती रही।

आदर्श बहुउदे्दश्य कृषि उत्पादन सहकारी समिति मवाना के प्रभारी शिवकुमार ने बताया कि पांच गुना अधिक गेहूं खरीद कर उनके केंद्र की पॉश मशीन पांच बजे स्वत: ही बंद हो गई। उनके केंद्र पर इस वर्ष करीब 16 हजार कुंतल गेहूं की खरीद हुई है, जबकि पिछले वर्ष 3950 कुंतल की खरीद हुई थी।

भारतीय खाद्य निगम केंद्र प्रभारी प्रमोद शर्मा ने बताया कि उनके केंद्र पर मंगलवार शाम छह बजे तक करीब 13 हजार 489 कुंतल गेहूं की खरीद हुई है, जबकि पिछले वर्ष केवल 17 सौ कुंतल गेहूं की खरीद हुई थी। उनके केंद्र पर इस वर्ष दस गुना गेहूं खरीदा गया। प्रादेशिक कोऑपरेटिव फेडरेशन के प्रभारी हरेन्द्र ने बताया कि उनके केंद्र पर 19150 कुंतल गेहूं की खरीद हुई है। पिछले वर्ष 4811 कुंतल गेहूं की खरीद हुई थी।

किसानों के नाम पर गेहूं कहां से आया?

मवाना में बने तीनों खरीद केन्द्रों पर इस वर्ष पांच गुना और दस गुना खरीदा गया है। अधिक गेहूं की खरीद होने पर सवाल उठता है कि इतना अधिक गेहूं कहां से आया। केंद्रों पर गेहूं बेचने आए किसानों ने कई बार यह गुद्दा उठाया कि खरीद केंद्रों पर गेहूं की ट्रॉलियों पर बैठकर व्यापारी अपना गेहूं बेच रहे है लेकिन किसान के रजिस्ट्रेशन पर गेहूं बेचा गया तो इसमें केन्द्र प्रभारी कुछ नहीं कर सके। किसानों ने बताया कि अनेक व्यापारी गांव-गांव घूमकर कम दामों पर गेहूं की खरीद करते थे और एक किसान को प्रलोभन देकर उसके नाम पर सरकारी दाम पर गेहूं बेचते थे। पांच मई के बाद गेहूं बेचने को लेकर डेढ़ माह तक मारा मारी मची रही।

22 जून तक होगी गेहूं की खरीद

मवाना। नवीन मंडी परिसर में स्थित भारतीय खाद्य निगम केंद्र प्रभारी प्रमोद शर्मा ने जानकारी दी कि शासन ने 22 जून तक गेहूं खरीद की तारीख बढ़ा दी है। शासन स्तर से पहली बार गेहूं खरीद की तारीख बढ़ाई गई है, जबकि 15 जून को ही गेहूं खरीद बंद कर दी जाती थी। उन्होंने बताया कि मंडी परिसर के तीनों केन्द्रों पर अब 22 जून तक गेहूं की खरीद की जाएगी। जहां पर बारदाना नहीं है उन पर बारदाने की व्यवस्था कर और पॉश मशीन के लॉक खोले जाएंगे।

संबंधित खबरें