DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी पुलिस पढ़ेगी शहीद धनसिंह कोतवाल का इतिहास

यूपी पुलिस पढ़ेगी शहीद धनसिंह कोतवाल का इतिहास

जंग-ए-आजादी की पहली लड़ाई में अंग्रेजों से लोहा लेने और मेरठ की धरती पर क्रांति का बिगुल फूंकने वाले शहीद धनसिंह कोतवाल का इतिहास अब पुलिस पढ़ेगी। इस गौरवशाली इतिहास को यूपी पुलिस ट्रेनिंग का हिस्सा बना दिया गया है। मेरठ के एसएसपी और इतिहासविद डा. सुशील तोमर को इस काम की जिम्मेदारी दी गई है। साथ ही डीजीपी ने ये भी ऐलान किया कि दिल्ली के नेशनल पुलिस म्यूजियम में शहीद धनसिंह कोतवाल के लिए अलग से सेक्शन बनाया जाएगा। यूपी पुलिस सदर कोतवाली और धनसिंह कोतवाल पर एक डॉक्यूमेंट्री भी बनाएगी।

सदर थाना मंगलवार यानी तीन जुलाई को इतिहास के पन्नों में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो गया। इसी थाने के कोतवाल धनसिंह गुर्जर ने 1857 की क्रांति में अपने साथियों के साथ मिलकर अंग्रेजों से लोहा लिया था और क्रांतिकारियों की मदद की थी। इसके बदले अंग्रेजों ने उन्हें फांसी पर लटका दिया था। शहीद धनसिंह कोतवाल की इसी शहादत को यूपी पुलिस ने सम्मान दिया है। सदर थाने के प्रांगण में शहीद धनसिंह कोतवाल की प्रतिमा लगाई, जिसका अनावरण मंगलवार को उत्तरप्रदेश पुलिस के मुखिया ओपी सिंह और सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने किया। इसके बाद शहीद की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

इस दौरान शहर के तमाम विधायक, जिला पंचायत सदस्य और बीजेपी नेता समेत व्यापारी मौजूद रहे। अपने संबोधन में डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि मैं इस गौरवशाली इतिहास का हिस्सा बनने पर गौरवान्वित और आभारी हूं। मैं मेरठ की धरती और शहीदों को नमन करता हूं, जिन्होंने देश की आजादी में अपने प्राणों की आहूति दी।

डीजीपी ने बताया कि इतिहास में शहीद धनसिंह कोतवाल ऐसे पहले पुलिसकर्मी थे, जिन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा लिया था। अंग्रेजों के रिकार्ड से भी इस बात की पुष्टि हुई। इतने समय तक हम शहीद धनसिंह कोतवाल को वो सम्मान नहीं दे पाए, जिसके वो अधिकार रखते थे। कहा कि अब धनसिंह कोतवाल की शहादत और शौर्य की वीरगाथा यूपी पुलिस पढ़ेगी। बताया कि धनसिंह कोतवाल का इतिहास यूपी पुलिस के ट्रेनिंग पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा और 15 दिन में ये प्रक्रिया पूरी कर दी जाएगी। मेरठ के एसएसपी राजेश पांडेय और इतिहासविद डा. सुशील तोमर को इसके लिए जिम्मेदारी दी है।

----

पुलिस नेशनल म्यूजियम में भी अलग सेक्शन

डीजीपी ने बताया कि सोमवार को दिल्ली में नेशनल पुलिस म्यूजियम को लेकर एक बैठक हुई थी। इसमें पूरे देश के तमाम राज्यों के पुलिस मुखिया आए थे। डीजीपी ने बताया कि उन्होंने म्यूजियम कमेटी के सामने धनसिंह कोतवाल की पूरी कहानी रखी, जिसके बाद ये निर्णय लिया गया कि देश की पुलिस के 150 साल पुराने इतिहास को अलग सेक्शन दिया जाएगा। शहीद कोतवाल और उनके साथियों के लिए बनाए इस सेक्शन में तमाम जानकारी दी जाएगी और दस्तावेज भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

----

धनसिंह कोतवाल पर बनेगी डॉक्यूमेंट्री

यूपी पुलिस के मुखिया ने ये भी ऐलान किया कि यूपी पुलिस शहीद कोतवाल धनसिंह गुर्जर पर डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाएगी। कहा कि जब देश में संचार के लिए कोई इलेक्ट्रॉनिक माध्यम नहीं था, तब पुलिस के कोतवाल धनसिंह गुर्जर ने अपने साथियों के साथ मिलकर अंग्रेजों से लोहा लिया और जान गवाई। इतना ही नहीं, उनके गांव को भी अंग्रेजों ने तोपों से उड़ा दिया और 400 लोग मारे गए। इस पूरी घटना पर डॉक्यूमेंट्री बनाई जाएगी।

----

कार्यक्रम में ये रहे मौजूद

सदर थाने के कार्यक्रम में एडीजी प्रशांत कुमार, आईजी रामकुमार, एसएसपी राजेश पांडेय, एसपी देहात राजेश कुमार, एसपी सिटी रणविजय सिंह, एसपी ट्रैफिक संजीव वाजपेयी, एसपी क्राइम शिवराम यादव, एएसपी सतपाल आंतिल, विधायक सोमेंद्र तोमर, पूर्व विधायक रविंद्र भड़ाना, भाजपा जिलाध्यक्ष शिवकुमार राणा, जिला पंचायत अध्यक्ष कुलविंदर, विधायक दिनेश खटीक, विधायक जितेंद्र सतवाई, विधायक सत्यवीर त्यागी, बीजेपी नेता अजित सिंह, अंकित सिंघल, सुनील दुआ, महंत महेंद्र दास, ताराचंद शास्त्री, विमल शर्मा, सरदार करमेंद्र सिंह मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:up police will learn the history of dhansingh kotwal