DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्क्रीन पर दिखा चंद्रग्रहण, खगोलीय घटना देख रोमांच से भरा गया हर कोई

स्क्रीन पर दिखा चंद्रग्रहण, खगोलीय घटना देख रोमांच से भरा गया हर कोई

डेढ़ सौ सौल बाद खास चंद्रग्रहण की खगोलीय घटना ने सभी को रोमांच से भर दिया। एलेक्जेंडर क्लब में चंद्रग्रहण का लाइव प्रसारण दिखाया गया। लोग परिवार सहित इस अद्भुत घटना के साक्षी बनने को लालायित हुए। क्लब में ‘स्पेस आर्गेनाइजेशन की ओर से बड़ी स्क्रीन पर चंद्रग्रहण को लाइव दिखाने के साथ विज्ञान के रहस्यों को खोलने वाले मॉडल और इवेंट दिखाए गए। टेलीस्कॉप से लोगों ने पल प्रतिपल चंद्रग्रहण के चलते चंद्रमा में होते बदलाव को देखा।

चमकदार और बढ़ा हुआ दिखा चंद्रमा

बुधवार को चंद्रग्रहण की घटना खगोलीय दृष्टि से भी बेहद खास थी। स्पेस एजेंसी के सिटी हेड विकास शर्मा ने बताया 150 साल में ऐसा पहली बार हुआ है जब चंद्रमा ग्रहण के दौरान पृथ्वी के सबसे ज्यादा नजदीक आया। ऐसे में चंद्रमा अपने सामान्य रंग से 30 प्रतिशत चमकदार और 13 प्रतिशत बढ़ा हुआ दिखाई दिया। यह सुपर मून, रेड मून और ब्लू मून तीन स्थितियों में दिखा।

ग्रहों पर जाना अपना वजन

एलेक्जेंडर क्लब में विभिन्न ग्रहों पर वजन जानने के लिए भी वेट मशीन लगाई गई थीं। सौरमंडल के ग्रहों का नाम देते हुए इनके नाम रखे गए थे। बच्चे ही नहीं बड़े भी विभिन्न ग्रहों पर अपना वजन जानने के लिए उत्सुक रहे। विभिन्न ग्रहों पर लोगों ने अपना वजन जाना। लोगों के उत्सुकता भरे सवालों के जवाब स्पेस के अभिषेक जैन, मो. अली शाह, विकास शर्मा, रोबिन मार्टिन ने दिए। विज्ञान के कई रहस्यों से भी इन लोगों ने पर्दा उठाते हुए जानकारी दी।

सौरमंडल के नजारे में ‘पृथ्वी बने लोग

पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है और विभिन्न ग्रह एक-दूसरे की परिक्रमा करते हैं। विज्ञान के इस रहस्य को प्रयोग के जरिए दिखाया गया। इसमें वीडियोगेम मशीन की तरह बल्ब के जरिए ग्रह दिखाए गए तो वहीं सबसे बड़ी गेंद की तरह सूर्य वहीं बीच में खोखला स्थान रहा। इसमें सिर डालकर सभी ग्रहों की स्थिति को लोगों ने जाना।

एस्ट्रोनॉट बनकर ली सेल्फी

क्लब में एस्ट्रोनॉट के कट आउट लगाए गए थे। इनमें चेहरा खाली थी। ऐसे में सेल्फी लेने के लिए भी होड़ लगी रही। लोगों ने अकेले व परिजनों संग जमकर सेल्फी ली। विभिन्न प्रोजेक्ट्स को जानते हुए लोगों ने इन पलों को अपने मोबाइल कैमरे में कैद किया।

रॉकेट हुए लांच, एक सुर में हुआ काउंट डाउन

हाइड्रोलिक प्रेशर के जरिए रॉकेट लांच करने का प्रदर्शन भी किया गया। क्लब के सचिव मुकेश गुप्ता व अन्य पदाधिकारियों ने प्लास्टिक के इन रॉकेट को लांच किया। पानी की बोतल व हवा के प्रेशर से दबाव बनाया गया। रॉकेट लांचिंग के लिए सभी ने उत्साह से काउंटडाउन गिना। रॉकेट लोगों के ऊपर से होता हुआ दूर जाकर गिरा।

बादल बन गए ‘विलेन

शाम से ही आसमान में बादल छाए रहे। ऐसे में चंद्रग्रहण को देखने के लिए लोग बेताब थे। बादलों की ओट हटती तो प्रसारण हो पाता। वहीं टेलीस्कॉप से लोग इस खगोलीय घटना को देख पाते। बादलों के छाए रहने से लोगों को परेशानी हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Total lunar eclipse in alexender club