DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मेरठ › ...बारिश में कभी भी गिर सकती है मकान की छत
मेरठ

...बारिश में कभी भी गिर सकती है मकान की छत

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Thu, 29 Jul 2021 04:40 AM
...बारिश में कभी भी गिर सकती है मकान की छत

मवाना। संवाददाता

प्रदेश सरकार भले ही गरीबों को प्रधानमंत्री आवास दिलाने का भरसक प्रयास कर रही है लेकिन अनेक परिवार ऐसे रह जाते हैं जिनको सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता।

महलका निवासी 56 वर्षीया शीला बरसात के दौरान भी कच्चे मकान में रह रही है। वह अपने मकान पर पॉलिथिन लगाकर बारिश का पानी अंदर आने से रोकने का प्रयास करती रहती है। फिर भी मंगलवार रात से हो रही बारिश के पानी से बचाव नहीं हो सका और घर के अंदर पानी पहुंच गया। शीला कहती हैं कि मकान की हालत जर्जर होने के कारण बारिश के चलते कभी भी उसकी छत गिर सकती है। चारों और बारिश का पानी टपकने लगता है। बताया कि वह गरीब है और उसकी विधवा पेंशन भी नहीं आ रही है। वह मजदूरी कर जैसे-तैसे अपना और अपनी ननद का भरण पोषण कर रही है। उसका आरोप है कि उसने कई बार ग्राम प्रधान एवं संबंधित अधिकारियों को शिकायत पत्र देकर मकान बनवाने की गुहार लगाई लेकिन आज तक सरकार ने उसका मकान नहीं बनवाया। कहा कि न ही सरकार की अन्य योजनाओं का लाभ मिल रहा है।

संबंधित खबरें