DA Image
23 नवंबर, 2020|3:16|IST

अगली स्टोरी

नए नियम ने बिगाड़ दिया बजट, मंडप संचालकों से बढ़ी तनातनी

नए नियम ने बिगाड़ दिया बजट, मंडप संचालकों से बढ़ी तनातनी

मेरठ। कार्यालय संवाददाता

शादी समारोह के लिए नई पाबंदी ने दिक्कतें बढ़ा दी हैं। 25 नवंबर को देवउठान एकादशी के साथ विवाह समारोह शुरू हो रहे हैं। कार्ड बांटे जा चुके हैं ऐसे में निमंत्रित लोगों में से किसे मना किया जाए इस पर शादी वाले घरों में खासा मंथन चल रहा है। दूसरी ओर 200 लोगों के स्थान पर अब 100 लोगों की शादी में उपस्थिति की मंजूरी से बजट बिगड़ गया है।

शास्त्रीनगर निवासी सुभाष और प्रेम की बेटी की शादी 8 दिसंबर को है। उनका कहना है कि पहली शादी है ऐसे में रिश्ते नातेदारों के साथ परिचितों को भी निमंत्रित किया है। बहुत मुश्किल से 200 लोगों की सूची बनाई। काफी कार्ड भी बांटे जा चुके हैं। अब सौ ही लोगों की उपस्थिति ने दिक्कतें बढ़ा दी हैं।

देवलोक कॉलोनी निवासी मुकेश बंसल की बेटी की शादी 25 नवंबर को है। वह कहते हैं कि गिनती के 200 लोगों को ही निमंत्रित किया था। दो दिन बाद शादी है। सभी कार्ड बांटे जा चुके हैं। अब कैसे नई शर्त का पालन होगा। किसी से कुछ नहीं कहा है। सबकुछ भगवान भरोसे छोड़ दिया है।

होटल मंडप संचालकों के साथ बढ़ गई तनातनी

कोरोना के चलते इस बार मंडप से ज्यादा होटल को पसंद किया जा रहा है। होटलों की ओर से कोविड-19 का पालन करते हुए व्यवस्थाएं भी की गई हैं। रुड़की रोड निवासी अशोक सहगल बताते हैं कि बाईपास स्थित होटल बुक किया था। 200 लोगों के खाने के लिए प्रति प्लेट 2000 रुपये के हिसाब से एडवांस भी दिया था। अब सौ ही लोगों की उपस्थिति के कारण होटल वाले पैसा वापस करने को तैयार नहीं हैं। गंगानगर निवासी हेमंत अग्रवाल का कहना है कि उन्होंने बैंकट हॉल बुक किया था। अब मेहमानों की संख्या घटने से खाना कम करा रहे हैं मगर बैंकट हॉल संचालक का कहना है कि वह हलवाई को एडवांस दे चुके हैं, खाना कम नहीं हो पाएगा। कहीं भी किसी भी स्तर पर कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The new rule ruined the budget increasing the tension with the pavilion operators