DA Image
23 नवंबर, 2020|9:31|IST

अगली स्टोरी

लिसाड़ी गेट पुलिस ने महिलाओं को रातभर लॉकअप में बैठाया

default image

मेरठ। मुख्य संवाददाता

लिसाड़ी गेट पुलिस ने नियमों को ताक पर रखकर दो महिलाओं को पूरी रात थाने में हिरासत में रखा। दूसरा पक्ष शातिर चोर है, लेकिन थाना पुलिस ने उसके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया। इस एकतरफा कार्रवाई और महिलाओं को रातभर हिरासत में रखने के मामले में पुलिस अधिकारियों से शिकायत की गई है। पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं।

रिजवान निवासी आमिर गार्डन कॉलोनी लिसाड़ी गेट ने बताया कि उनकी बहन रूबीना भी आमिर गार्डन में रहती है। बताया कि शनिवार को उनका स्थानीय निवासी शबाब से विवाद हो गया था। इसी विवाद के दौरान शबाब और उसके भाई अरशद ने साथियों के साथ मिलकर महिलाओं से मारपीट की। इसके बाद शिकायत लेकर रूबीना और शबाब पक्ष के लोग समर गार्डन चौकी पहुंच गए। यहां भी शबाब की पत्नी और रूबीना के बीच विवाद हो गया। रूबीना अपनी भाभी शमा परवीन के साथ थाने पहुंच गई। आरोप है कि पुलिस ने दोनों को हिरासत में ले लिया और थाने में बैठा लिया गया। पूरी रात थाने में बैठाकर रखा और दूसरे पक्ष के घर पर दबिश तक नहीं दी।

आरोप लगाया कि शबाब बड़ा चोर है और दूसरे राज्यों में भी उसके खिलाफ मुकदमे दर्ज हैं। बावजूद इसके पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। इस मामले में परिजनों ने कमिश्नरी पहुंचकर रविवार को विरोध जताया और एसएसपी कार्यालय पर शिकायती पत्र दिया गया। इसी मामले में एसएसपी की ओर से थाना पुलिस से जवाब मांगा गया है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

शहर के वरिष्ठ अधिवक्ता एडवाकेट रामकुमार शर्मा ने बताया कि पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन किया है। महिलाओं को इस तरह से थाने में रातभर हिरासत में नहीं रखा जा सकता। जरूरी था तो इन महिलाओं को महिला थाने भिजवाना चाहिए था। पुलिस ने नियमों को ताक पर रखकर कार्रवाई की है। इस मामले में कार्रवाई होनी चाहिए।

महिलाओं ने आपस में विवाद और मारपीट की थी। इसकी वीडियो भी है। थाने में महिला कांस्टेबल मौजूद थी, इसलिए महिलाओं को थाने में रखा गया था।

- प्रहलाद सिंह, इंस्पेक्टर क्राइम

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The Lisadi Gate Police made the women sit in lockup overnight