DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिस्टम और विभाग की लापरवाही ने ली सिपाही रोहित की जान

पुलिस सिस्टम की लापरवाही ने बुधवार देर रात दिल्ली-दून हाईवे पर सिपाही रोहित मलिक की जान ले ली। वह दिन में उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य के वीवीआईपी कार्यक्रम की ड्यूटी में व्यस्त था। रात में थाने पहुंचकर आमद कराई तो उसे हाईवे की सुरक्षा संभालने भेज दिया। सुबह नौ बजे से व्यस्त रोहित रात साढ़े तीन बजे तक ड्यूटी पर तैनात रहा। उसे विभाग ने रेडियम जैकेट भी मुहैया नहीं कराई थी। शामली के लाट गांव का रहने वाला 26 वर्षीय रोहित मलिक वर्ष 2015 बैच का यूपी पुलिस का सिपाही था। वर्तमान में उसकी तैनाती कंकरखेड़ा थाने में थी। बुधवार को उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य मेरठ आए थे। रोहित की ड्यूटी इस वीवीआईपी कार्यक्रम में लगा दी गई। रात करीब नौ बजे वह इस कार्यक्रम से फ्री हुआ और कंकरखेड़ा थाना पहुंचकर आमद दर्ज कराई। ड्यूटी लगाने वाले मुंशी ने रोहित को घर भेजने के बजाय उसे हाईवे की सुरक्षा में फैंटम के साथ भेज दिया। रोहित सहित तीनों सिपाहियों के पास रात्रि ड्यूटी के वक्त रेडियम जैकेट तक नहीं थी। अब यह जांच का विषय है कि इन सिपाहियों को विभाग से जैकेट मिली थी अथवा नहीं। यदि जैकेट होती तो शायद ईको वैन का चालक दूर से ही सिपाहियों को देख पाता और हादसा नहीं होता। फर्ज निभाते हुए गई जान सिपाही रोहित मलिक बेहद मिलनसार था। वह अपने फर्ज एवं जिम्मेदारियों से कभी पीछे नहीं हटता था। रात में थाने पहुंचने के बाद जब मुंशी ने उसे हाईवे पर ड्यूटी करने का फरमान सुनाया तो उसने जरा भी विरोध नहीं किया। दिनभर का थका-हारा होने के बावजूद वह ड्यूटी पर तैनात रहा। दो दिन पहले ही रोहित छुट्टी से ड्यूटी पर आया था। घर का अकेला चिराग था रोहित अपने घर का अकेला चिराग था। मौत के बाद परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। दोनों बहनों व मां का रो-रोकर बुरा हाल था। पिता की आंखों से आंसू नहीं रुक रहे। पुलिस लाइन में दी गई सलामी पोस्टमार्टम के बाद सिपाही रोहित का शव दोपहर करीब डेढ़ बजे पुलिस लाइन में लाया गया। यहां पुलिस अफसरों ने अंतिम सलामी देते हुए पुष्प चक्र अर्पित किए। अफसरों ने परिजनों को हरसंभव मदद का भरोसा दिया। इसके बाद परिजन शव लेकर शामली रवाना हो गए। इस दौरान एसपी सिटी मान सिंह चौहान, एसपी देहात राजेश कुमार, एएसपी सुकीर्ति माधव, एएसपी अंकित मित्तल, सीओ बीएस वीरकुमार, धर्मेन्द्र चौहान आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The life of Le Sep Rohit, the negligence of the system and department