DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  लाश नहीं मिलती तो दफन हो जाता तबस्सुम हत्याकांड

मेरठलाश नहीं मिलती तो दफन हो जाता तबस्सुम हत्याकांड

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:00 AM
लाश नहीं मिलती तो दफन हो जाता तबस्सुम हत्याकांड

मुजफ्फरनगर की तबस्सुम का शव मेरठ में बरामद नहीं होता तो हत्याकांड भी दफन हो जाता। मेरठ के जानी में गंगनहर में शव बरामदगी के बाद आरोपी पिता पुत्र को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा है। मृतका के डीएनए सैंपल की जांच कराई जाएगी।

मुजफ्फरनगर के कवाल निवासी तबस्सुम की 24 मई को अपहरण के बाद प्रेमी तैमूर ने अपने बेटे शोएब के साथ मिलकर हत्या कर दी थी। तबस्सुम फिलहाल तैमूर पर निकाह के लिए दबाव बना रही थी। इसी को लेकर तैमूर की पत्नी और बेटा विरोध कर रहे थे। तैमूर ने बेटे के साथ मिलकर तबस्सुम को रास्ते से हटा दिया और लाश को गंगनहर में बहा दिया था। पुलिस को दो दिन वह गुमराह करता रहा कि उसने लाश को पत्थर बांधकर नहर में फेंका है। इसलिए पुलिस नहर में दो से तीन किलोमीटर दायरे में ही लाश को तलाश कर रही थी। गोताखोर वहां आसपास तलाश कर रहे थे, लेकिन लाश नहीं मिली। रविवार दोपहर करीब 60 किलोमीटर दूर जानी के पास तबस्सुम की लाश बरामद कर ली गई। इसके बाद पुलिस ने तैमूर और शोएब को गिरफ्तार दिखाया। पुलिस अधिकारियों का मानना है कि लाश नहीं मिलती तो कार्रवाई पुख्ता नहीं होती। अब डीएनए सैंपल जांच के लिए भेजा जाएगा।

संबंधित खबरें