DA Image
6 दिसंबर, 2020|4:15|IST

अगली स्टोरी

कॉमेडी की नूरा कुश्ती ने बना दिया रतन नूरा

कॉमेडी सबसे विविधतापूर्ण काम है। बिना मर्यादा के यह बेकार है। यह कहना है मेरठ आए मशहूर कॉमेडियन और मिमिक्री कलाकार सुनील पाल। उन्होंने कहा कि आज भी रतन नूरा के साथ मेरी नूरा कुश्ती चलती रहती है। सुनील पाल ने गढ़ रोड स्थित होटल ब्रॉड-वे इन में ‘हिन्दुस्तान के साथ खास बातचीत की।

उन्होंने कहा कि डिजिटल युग आने से कॉमेडियन का कांपीटिशन बढ़ गया है। आज कॉमेडी केवल फिल्मों, धारावाहिकों और लाफ्टर शो की मोहताज नहीं है। मोबाइल और सोशल मीडिया ने लोगों को रातोंरात स्टार बना दिया है। सुनील पाल ने कहा कि वह जो काम मिलता है उसके साथ पूरा न्याय करने की कोशिश करते हैं। फिल्म हो या फिर लाफ्टर शो। उन्होंने कहा कि मेरठ शहर में कई बार आना हुआ तो चाहने वालों ने बहुत मोहब्बत से नवाजा।

1995 में मुंबई आया तो वहीं का होकर रह गया : सुनील पाल ने बताया कि वह महाराष्ट्र में चंद्रपुर जिले के निवासी हैं। 1995 में वह मुंबई आए थे। 1999 में डीडी मेट्रो पर आने वाले शो टोटल धमाल में मिमिक्री ने उन्हें पहचान दिलाई। कहा कि दस साल पहले का दौर लोगों को खूब याद है। जब शेखर सुमन, नवजोत सिंह सिद्धू, कपिल शर्मा, कृष्णा आदि टीवी पर छाए थे। इनमें से बहुत से कलाकार आज भी लोगों का मनोरंजन कर रहे हैं। लाफ्टर शो ने नए कलाकारों को खूब मौके दिए।

कपिल-सुनील ग्रोवर का अलग होना कॉमेडी का नुकसान : सुनील पाल ने कपिल शर्मा को कॉमेडी का बादशाह बताया। कहा कि कपिल शर्मा और सुनील ग्रोवर का अलग होना कॉमेडी का नुकसान है। दोनों ने पूरे परिवार को एक साथ बैठकर हंसने-हंसाने का मंच और माहौल दिया। बताया कि उनका एपिक चैनल पर एक धारावाहिक नुक्कड़-एक चौपाल आने वाला है। इसके बाद तीन फिल्में आ रही हैं। इनमें वो तेरी भाभी है पगली, भागते रहो और टायं-टायं फिस्स हैं। बताया कि दर्शक तीनों फिल्मों का भरपूर मजा लेंगे।