DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीनी मिल में आग लगने पर यूपी सरकार तलब

मेरठ स्थित एक चीनी मिल में आग लगने के मामले में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने बुधवार को पर्यावरण मंत्रालय और उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। ट्रिब्यूनल ने इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए समुचित कदम उठाने की मांग को लेकर दाखिल याचिका पर यह आदेश दिया है।

मेरठ में 26 मई को किनौनी मिल के डिस्टलरी वाले हिस्से में कंटेनरों में एल्कोहल भरने के दौरान भंडार टैंक में आग लगने के कारण दो मजदूरों की मौत हो गई थी जबकि एक को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस आग को बुझाने के लिए सेना की मदद ली गई थी। सेना व प्रदेश के अग्निशमन विभाग के संयुक्त प्रयास के बाद अगले दिन शाम तक पूरी तरह से आग पर काबू पाया जा सका था। ट्रिब्यूनल के कार्यवाहक अध्यक्ष जस्टिस जावद रहीम की अगुवाई वाली पीठ ने केंद्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, यूपी सरकार और पेट्रोलियम तथा सुरक्षा संगठन (पीईएसओ) को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। गैर सरकारी संगठन 'सेफ' की ओर से अधिवक्ता संजय उपाध्याय ने कहा कि औद्योगिक इकाई बजाज हिंदुस्तान चीनी मिल की 14 इकाईयों में एक है और यूपी सरकार द्वारा सुपुर्द किसी भी रिपोर्ट में डिस्टलरी की स्थिति पर कोई सूचना नहीं है। उन्होंने कहा कि गर्मी के दिनों में डिस्टलरी इकाईयों में आग से हादसे होने की आशंका रहती है और प्रशासन को उचित निर्देश जारी करने चाहिए, ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृति न हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sugar mill news