sugar mill - अब निर्यात सब्सिडी मिलने के इंतजार में चीनी मिलें DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब निर्यात सब्सिडी मिलने के इंतजार में चीनी मिलें

शासन ने सभी चीनी मिलों को चीनी समेत अन्य उत्पादों की बिक्री कर गन्ने का शत-प्रतिशत बकाया भुगतान 31 अगस्त तक करने के आदेश दिए थे। समय सीमा बीतने के बाद भी मंडल की 15 मिलें शत-प्रतिशत भुगतान नहीं कर पाई हैं।

मंडल की अधिकतर चीनी मिलों पर बकाया के बराबर चीनी स्टॉक और अन्य उत्पाद नहीं हैं। बीते दिनों हुई समीक्षा बैठक में मंडलायुक्त ने सभी मिलों को बकाया भुगतान की कार्ययोजना तैयार करने के आदेश दिए हैं। हाल ही में केंद्र सरकार चीनी मिलों को निर्यात पर सब्सिडी देने की घोषणा की है। अब मिलें निर्यात सब्सिडी से मिलने वाली रकम के इंतजार में हैं। चीनी मिलों पर बकाया भुगतान को लेकर दबाव बढ़ता जा रहा है। शासन ने सभी चीनी मिलों को चीनी समेत अन्य उत्पाद की बिक्री कर 31 अगस्त तक शत-प्रतिशत भुगतान के आदेश दिए थे। मेरठ मंडल में मात्र दौराला मिल ही शत-प्रतिशत भुगतान कर पाई है। मंडल की 15 मिलों पर अभी भी किसानों का 1500 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है। समीक्षा बैठक में मंडलायुक्त अनीता सी मेश्राम ने भुगतान में फिसड्डी मिलों को बकाया भुगतान करने की कार्ययोजना बनाने के आदेश दिए हैं। अब मिलें चीनी समेत अन्य उत्पाद की कीमत और बकाया रकम का ब्योरा मंडलायुक्त को सौंपेंगी। हाल ही में केंद्र सरकार ने मिलों को राहत देते हुए निर्यात पर सब्सिडी देने की घोषणा की है। इस कारण मिलें निर्यात सब्सिडी के रूप में मिलने वाली सहायता के इंतजार में हैं, ताकि चीनी और अन्य उत्पाद समेत मिलने वाली सब्सिडी की रकम कार्ययोजना में जोड़कर मंडलायुक्त के समक्ष प्रस्तुत कर सकें। गन्ना विभाग के अधिकारियों का कहना है कि मिलों को मिलने वाली सब्सिडी की रकम मिलने के बाद बकाया भुगतान में तेजी आएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sugar mill