DA Image
21 जनवरी, 2021|1:56|IST

अगली स्टोरी

मोबाइल टार्च की रोशनी में पढ़ाई कर टॉपर बनी सोनिया

मोबाइल टार्च की रोशनी में पढ़ाई कर टॉपर बनी सोनिया

सरधना क्षेत्र के भलसौना गांव की रहने वाली सोनिया शर्मा काफी कठिनाइयों का सामना करके टॉपर के मुकाम तक पहुंची है। सिविल सर्विस में जाने की तमन्ना रखने वाली सोनिया ने मोबाइल टार्च की रोशनी में परीक्षा की तैयारी की और सर्वाधिक अंक प्राप्त कर अपने स्वर्गीय पिता का नाम पूरे क्षेत्र में रोशन कर दिया। हिन्दुस्तान ने टॉपर सोनिया से उसकी तैयारियों से लेकर टॉपर बनने तक के सफर पर विशेष बातचीत की।

सोनिया शर्मा ने बताया कि जब वह कक्षा पांच में थी तो उसके पिता ब्रजपाल शर्मा की मौत हो गई थी। घर में कमाने वाला कोई नहीं था। परिवार में सोनिया सबसे बड़ी है। उसके बाद दो छोटे भाई व बहन हैं। मां कोशल शर्मा ही सभी का पालन पोषण मेहनत मजदूरी करके करती है। सोनिया ने बताया कि वह दिन में स्कूल में होती थी और रात को 10 बजे से अपनी पढ़ाई शुरू करती थी। रात में छह घंटे वह पढ़ाई करती थी। सोनिया ने इस सफलता का श्रेय अपनी मां व परिवार के सदस्यों को दिया है। परिवार के सभी सदस्यों में खुशी का माहौल था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sonia became a topper after studying in mobile torch light