DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  मेरठ में बनेगी सीड टेस्टिंग लैब

मेरठमेरठ में बनेगी सीड टेस्टिंग लैब

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:01 AM
मेरठ में बनेगी सीड टेस्टिंग लैब

मेरठ। संवाददाता

मंडल के कृषि क्षेत्र में अभूतपूर्व सुधार होने जा रहा है। डीडी कार्यालय के समीप सीड टेस्टिंग लैब बनाई जा रही है। इसमें किसान अपने बीज का परीक्षण करा सकेंगे। साथ ही विशेषज्ञ उन्नत बीजों के लिए रिसर्च करेंगे। प्राइवेट विक्रेताओं से लिए जाने वाले खाद के सैंपल की रिपोर्ट कम समय में जारी हो पाएगी। इसके साथ ही उन्नत बीजों पर रिसर्च करने वाली लैब से लैस मेरठ प्रदेश में तीसरा जिला बन जाएगा।

लैब की स्थापना के लिए डीडी कार्यालय में भवन तय कर लिया गया है। तमाम उपकरणों के लिए करीब 23 करोड़ रुपए की धनराशि निश्चित की गई है। इसमें परीक्षण, रिसर्च के अलावा विशेषज्ञों के लिए उपयोगी तमाम उपकरण शामिल होंगे। जरूरत के अनुसार धनराशि बढ़ाई भी जा सकती है। शासन ने मंजूरी दे दी है। इसमें रिसर्च के लिए कृषि निदेशक कार्यालय के पास कृषि विभाग के फार्म की जमीन का इस्तेमाल किया जाएगा। डीडी रिसर्च विजेंद्र कुमार लैब तैयार करने के लिए काम कर रहे हैं।

---------------

यह होगा फायदा

सीड टेस्टिंग लैब से मंडल के 5 लाख से अधिक किसानों को लाभ मिलेगा। गन्ने को छोड़कर सभी फसलों के बीज का किसान परीक्षण करा पाएंगे। इससे किसान को बुवाई से पहले ही पता चल जाएगा कि बीज बोने लायक है या नहीं है। इससे खराब बीज होने के बाद अच्छा जमाव नहीं होने पर नुकसान से किसान बच जाएंगे। किसान उसे उपचारित करके भी प्रयोग कर पाएंगे। यह सुविधा बेहद सस्ती दरों पर देने का निर्धारण होगा।

---------------

रिसर्च लैब में जुड़ गया तीसरा नाम

बरेली, मथुरा, हरदोई, गोरखपुर समेत कई जिलों में सीड टेस्टिंग लैब है। इनमें सैंपल का परीक्षण किया जाता है, लेकिन उन्नत बीजों की रिसर्च का काम प्रदेश में लखनऊ और कानपुर की लैब में ही किया जाता है। अब मेरठ में ऐसी तीसरी लैब होगी।

---------------

इनका कहना है

सीड टेस्टिंग लैब बनाने के लिए तैयारी तेजी से चल रही है। इसमें मुख्य काम रिसर्च का होगा। साथ ही किसानों के बीज का परीक्षण भी कराया जा सकेगा।

बृजेश चंद्र, कृषि उप निदेशक

संबंधित खबरें