DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  कोविड वार्ड के बाथरूम में हुई थी संतोष कुमार की मौत

मेरठकोविड वार्ड के बाथरूम में हुई थी संतोष कुमार की मौत

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 11 May 2021 03:21 AM
कोविड वार्ड के बाथरूम में हुई थी संतोष कुमार की मौत

मेरठ। वरिष्ठ संवाददाता

एलएलआरएम मेडिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमित मरीज संतोष कुमार की मौत के मामले में एक और सनसनीखेज खुलासा हुआ है। उनकी मौत 22 अप्रैल को बाथरूम में हो गई थी। वार्ड सिस्टर ने कोविड वार्ड की जनरल डायरी में इसका उल्लेख किया है कि एक अज्ञात मरीज का शव बाथरूम में पड़ा मिला था।

मूल रूप से बरेली में आशुतोष सिटी निवासी संतोष कुमार (64) बीते 21 अप्रैल को मेरठ मेडिकल के कोविड वार्ड में भर्ती हुए थे। मेडिकल प्रशासन के अनुसार, उनकी मौत 23 अप्रैल को हो गई लेकिन परिजनों को 15 दिन बाद यानि 8 मई को बताया गया। मेडिकल प्राचार्य डॉ. ज्ञानेंद्र कुमार के निर्देश पर तीन डॉक्टरों की टीम इस केस की जांच कर रही है।

मौत के बाद डॉक्टर को दी थी सूचना

जांच टीम ने सोमवार को कोविड वार्ड में जाकर उस दौरान ड्यूटी पर मौजूद कर्मचारियों के बयान दर्ज किए। 22 अप्रैल को ड्यूटी पर मौजूद रही सिस्टर ने टीम को बताया कि उस दिन कोविड वार्ड के बाथरूम में एक मरीज की मौत हो गई थी। उनकी बॉडी बाथरूम में मिली थी। इस मरीज की शिनाख्त नहीं हो पाई। तब तक सिस्टर की शिफ्ट खत्म हो गई और वह चली गईं। सिस्टर ने इसकी मौखिक सूचना वहां मौजूद डॉक्टर को दी। बाकायदा इसकी एंट्री रजिस्टर में हुई। बाथरूम में मृत मिलने वाले मरीज संतोष हो सकते हैं, क्योंकि उनके अतिरिक्त किसी ऐसे मरीज की मौत नहीं हुई, जो अज्ञात हो।

भर्ती रजिस्टर में नाम तो फिर अज्ञात कैसे?

कोविड वार्ड के रजिस्टर के अनुसार, 21 अप्रैल को जो नए मरीज भर्ती हुए, उनमें तीसरे नंबर पर संतोष का नाम है जिनकी उम्र 64 साल है। 23 अप्रैल को संतोष नाम की एक और मरीज भर्ती हुईं, जो फीमेल हैं। दोनों का नाम संतोष लिखा हुआ है। जब भर्ती रजिस्टर में मरीज का नाम संतोष लिखा हुआ है तो उन्हें अज्ञात कैसे कहा जा सकता है, यह बड़ा सवाल है।

स्टाफ में आंदोलन की सुगबुगाहट

सूत्रों के मुताबिक, इस प्रकरण में कुछेक कर्मचारियों पर गाज गिराने की तैयारी है। इसे लेकर कर्मचारी लामबंद हो गए हैं। उनका कहना है कि हर कोई बराबर का दोषी है। कोविड इंचार्ज और डॉक्टरों तक की जिम्मेदारी तय है। इसलिए कार्रवाई फिर सभी पर हो। यदि ऐसा नहीं हुआ तो आंदोलन किया जाएगा।

-------

कोरोना संक्रमित मरीज संतोष कुमार की मौत के मामले में टीम जांच कर रही है। टीम ने कुछ बयान लिए हैं। रिपोर्ट मिलने के बाद ही कोई कार्रवाई की जाएगी।

- डॉ. ज्ञानेंद्र कुमार, प्राचार्य मेडिकल कॉलेज मेरठ

संबंधित खबरें