DA Image
27 अक्तूबर, 2020|9:02|IST

अगली स्टोरी

मुख्यमंत्री से आरएफसी की शिकायत, रिश्वत लेकर बहाली के आरोप

default image

भारतीय किसान यूनियन भानू ने मेरठ के संभागीय खाद्य नियंत्रक पर पद के दुरुपयोग और भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजा है। पत्र में आरोप लगाया कि बुलंदशहर जनपद के केंद्र डिबाई/दानपुर पर सरकारी खाद्यान की राजीव सिंह ठेकेदारी करते हैं। पिछले वर्ष 15 अक्तूबर को केंद्र पर भेजे गए चावल में उन्हें चोरी कर कम मात्रा प्राप्त हुई। इसे लिखित में दर्ज कराने को लेकर केंद्र प्रभारी मनोज कुमार से गाली गलौज हो गई। जान से मारने की धमकी भी मनोज को मिली।

मनोज कुमार ने ठेकेदार के विरुद्ध थाना डिबाई में एफआईआर करते हुए ज़िला खाद्य विपणन अधिकारी बुलंदशहर द्वारा संभागीय खाद्य नियंत्रक को इसकी शिकायत की थी और घटना की ऑडीओ क्लिप भी दी थी। शिकायत मिलने और कर्मचारी संगठन के धरने के बाद संभागीय खाद्य नियंत्रक ने इस ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करते हुए इसके ठेके निरस्त कर दिए थे। भाकियू भानू ने आरोप लगाया कि मनोज कुमार पर दबाव बनाकर पहले राजीव सिंह से समझौता करा दिया गया। इसी बिनाह पर पुलिस की एफआर को आधार मानकर संभागीय खाद्य नियंत्रक ने पुराना आदेश निरसत कर बहाल कर दिया। भाकियू भानू ने आरोप लगाया है कि संभागीय खाद्य नियंत्रक ने सोहनपाल बाबू के जरिये मोटी रिश्वत लेकर बहाली की। इन्होंने आरएफसी के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही और सोहनपाल बाबू को तत्काल ठेकेदारों के काउंटर से हटाने की मांग करते हुए विस्तृत जांच की भी मांग की। ऐसा न होने पर आंदोलन की भी चेतावनी दी है। उधर आरएफसी एके पांडे ने आरोपों को निराधार बताया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:RFC complaint to Chief Minister allegations of reinstatement by taking bribe